प्रयागराज, जेएनएन। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में इस बार प्रधान की आठ, बीडीसी की 49 और ग्राम पंचायत सदस्य की 8416 सीटों पर मतदान नहीं होगा। वह इसलिए कि इन सीटों पर निर्विरोध निर्वाचन हो चुका है। इन सीटों पर चुनाव न होने से निर्वाचन आयोग का स्टेशनरी का खर्च बचेगा।

प्रधान की आठ और बीडीसी की 49 सीटों पर निर्विरोध निर्वाचन

जिला पंचायत सदस्य की 84 सीटों के लिए मैदान में 1461 प्रत्याशी है। सभी सीटों पर लगभग कांटे की टक्कर है। प्रधान की भी अधिकतर सीटों पर कांटे की टक्कर है। लेकिन इसमें बहादुरपुर ब्लाक के पांच और भगवतपुर ब्लाक के तीन गांवों में प्रधानों का चुनाव नहीं होगा। इन सीटों पर निर्विरोध निर्वाचन हो चुका है। अब जिले भर की प्रधान की 1540 सीटों में से 1532 पर ही चुनाव कराया जाएगा। क्षेत्र पंचायत सदस्य (बीडीसी) के कुल 2086 सीटों में 2037 सीटों पर ही चुनाव कराया जाएगा। क्योंकि बीडीसी की बहादुरपुर में दो, श्रृंगवेरपुर में चार, प्रतापपुर में तीन, बहरिया, सैदाबाद, धनूपुर और मऊआइमा में दो, भगवतपुर में 11, फूलपुर में एक, हंडिया में चार, कौडि़हार और शंकरगढ़ में एक, होलागढ़ में दो, उरुवा में तीन, करछना में पांच, मेजा और जसरा में दो सीटों पर निर्विरोध निर्वाचन हो चुका है। इन सीटों पर चुनाव नहीं कराया जाएगा।

ग्राम पंचायत सदस्य की 8416 सीटों पर भी प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित

ऐसे ही ग्राम पंचायत सदस्य की 8416 सीटों पर निर्विरोध निर्वाचन हो चुका है। ग्राम पंचायत सदस्य की कुल 19820 सीटों में से ही अब 5795 सीटों पर प्रशासन को निर्वाचन कराना पड़ेगा। प्रभारी जिला निर्वाचन अधिकारी व एडीएम वित्त एवं राजस्व एमपी सिंह ने बताया कि जिन सीटों पर निर्विरोध निर्वाचन हो चुका है, उनको छोड़कर अन्य सीटों पर 15 अप्रैल को मतदान कराया जाएगा। बची सीटों पर चुनाव के लिए तैयारी चल रही है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021