प्रयागराज,जेएनएन। माफिया और हिस्ट्रीशीटर दिलीप मिश्रा के औद्योगिक क्षेत्र के लवायन कला गांव में बने इंजीनियरिंग, विधि और फार्मेसी कॉलेज पर शनिवार को जेसीबी नहीं चल सकी। कॉलेज को ढहाने पहुंची प्रयागराज विकास प्राधिकरण (पीडीए) की टीम को उच्च न्यायालय के आदेश के बाद बैकफुट पर आना पड़ा और करीब ढाई घंटे बाद टीम बैरंग लौट आई।

10 हजार वर्गगज क्षेत्रफल में है कॉलेज

हिस्ट्रीशीटर और पूर्व ब्लॉक प्रमुख दिलीप मिश्रा का लवायन कला में करीब 10 हजार वर्गगज क्षेत्रफल में माया देवी ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट के नाम से इंजीनियरिंग, विधि और फार्मेसी कॉलेज है। लेकिन, पीडीए से नक्शा नहीं पास कराया गया है। इसकी वजह से प्राधिकरण द्वारा पूर्व में नोटिस देने के साथ ध्वस्तीकरण आदेश भी पारित किया गया है। अफसरों के मुताबिक प्राधिकरण के आदेश के खिलाफ उसके स्वजन उच्च न्यायालय गए थे। न्यायालय ने मामले के निस्तारण के लिए कमिश्नर को निर्देश दिए थे। कमिश्नर आर रमेश कुमार की कोर्ट ने शुक्रवार को याचिका निस्तारित करते हुए प्राधिकरण के पक्ष में निर्णय दिया। उसी क्रम में पीडीए की टीम जोनल अधिकारी आलोक कुमार पांडेय और विशेष कार्याधिकारी सत शुक्ला के नेतृत्व में दोपहर करीब 12 बजे कॉलेज को ढहाने के लिए भारी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंची।

तीन दिसंबर को होगी सुनवाई

पूर्व ब्लॉक प्रमुख के स्वजनों द्वारा उच्च न्यायालय में मामले के मेंशन करने की जानकारी दी गई, जिससे अफसरों ने कार्रवाई रोककर न्यायालय के आदेश का इंतजार करने लगे। करीब ढाई बजे न्यायालय द्वारा मामले की सुनवाई तीन दिसंबर तय किए जाने की जानकारी होने पर टीम वापस लौट आई। अफसरों का कहना है कि तीन को फैसले के बाद मामले में निर्णय लिया जाएगा। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021