प्रयागराज, जेएनएन। इलाहाबाद विश्वविद्यालय व यहां के छात्रों पर आधारित लोक गायिका नेहा सिंह राठौर के गीत से विवाद खड़ा हो गया है। इस गीत को लेकर विश्वविद्यालय के तमाम छात्रों में नाराजगी है। छात्र नेताओं का कहना है कि गायिका को अपने गीत के लिए माफी मांगनी चाहिए। इस मामले को छात्रनेताओं ने विवि के चीफ प्रॉक्‍टर को ज्ञापन देकर नेहा के खिलाफ एफआईआर दर्ज किए जाने की मांग की है। दूसरी तरफ लोक गायिका नेहा ने माफी मांगने से साफ इनकार कर दिया है। कहा कि उनके गीत से किसी भी तरह से विश्वविद्यालय की छवि नहीं प्रभावित हुई है। न उनका किसी भी छात्र को इसे लेकर उग्र नहीं होना चाहिए।

नेहा ने ट्वीट कर तंज कसा है कि क्या भव्य निंदा समारोह में मेरा पुतला भी जलाया जाएगा। यह ट्वीट एक पोस्ट के जवाब में किया गया है। उस पोस्ट में लिखा है कि मनमोहन पार्क में लोक गायिका नेहा सिंह राठौर द्वारा गाए गीत से विश्वविद्यालय की छवि धूमिल हुई है। उसके विरोध में भव्य निंदा समारोह का आयोजन किया जा रहा है।

नेहा के मित्रों की पोस्ट पर भी अभद्र टिप्पणी

नेहा ने ट्विटर पर एक पोस्ट साझा की है जिसमें बताया गया है कि उनके मित्र देवेश मिश्र की पोस्ट पर कुछ लोग उन्हें लेकर अभद्र टिप्पणी कर रहे हैं। अपशब्द भी कह रहे है। इस पोस्ट को संज्ञान में लेने की भी अपील गायिका ने की है। इससे पूर्व गायिका ने लोगों को जवाब देते हुए ट्वीट किया है कि आप लोगों को इतना भावुक होने की जरूरत नहीं है। बात बात पर इस तरह आहत क्यों हो जाते हैं। कहा है कि जिस इलाहाबाद विश्वविद्यालय की संस्कृति को अपमानित करने का आरोप मुझपर लग रहा है,वह निश्चित रूप से महान हुआ करती थी, विश्वविद्यालय को ऑक्‍सफोर्ड आफ ईस्ट भी कहा जाता था। गायिका ने पूछा है कि अब ऐसा है क्या?

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021