जागरण संवाददाता, इलाहाबाद : 'हुदहुद' चक्रवाती तूफान ने सोमवार भोर ही जनपद में दस्तक दे दी। सुबह से शुरू हुई बारिश देर रात तेज होती गई और पूरा शहर लबालब हो गया। तेज बारिश से गर्मी से तो निजात मिली पर शहर के निचले हिस्से में लोगों को जलजमाव की समस्या से गुजरना पड़ा।

अंडमान निकोबार से उठा चक्रवाती तूफान हुदहुद रविवार को आंध्र प्रदेश में तबाही मचाते हुए बंगाल, बिहार के रास्ते सोमवार को इलाहाबाद पहुंचा जिससे सुबह से तेज हवाओं के साथ बारिश शुरू हुई तो देर रात तक जारी रही। इसके चलते मौसम काफी ठंडा हो गया। तापमान में भी कमी आ गई। देर रात चली तेज ठंडी हवाओं ने लोगों को ठिठुराया। खासकर उन्हें जिन्होंने बारिश में भीगने की हिमाकत की। मौसम विज्ञानी डॉ. सुनीत द्विवेदी की मानें तो हुदहुद तूफान का असर मंगलवार से कम होने लगेगा।

------

फोटो--

शहर में जगह-जगह जलभराव

इलाहाबाद : बिन मौसम की बरसात से शहर की सड़कें जहां लबालब हो गई वहीं कई मुहल्लों में जलभराव हो गया। इसके चलते लोगों को परेशानी उठानी पड़ी। सुबह बरसात शुरू हुई तो रफ्तार काफी धीमी थी। रिमझिम बारिश भिगो तो रही थी किंतु जलभराव नहीं था। शाम गहराते बारिश की रफ्तार भी तेज हो गई। लगातार बारिश से सड़कों पर जगह-जगह जलभराव की स्थिति बन गई। अल्लापुर, जार्जटाउन, टैगोर टाउन, बैरहना, रामबाग, मधवापुर आदि मुहल्ले पानी से लबालब हो गए। स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल के आसपास क्षतिग्रस्त सड़कों पर चलना मुश्किल हो गया। निरंजन डॉट पुल के नीचे जलभराव के कारण पचास मीटर की दूरी तय करने में लोगों को सौ जतन करने पड़े। अल्लापुर के कई क्षेत्रों में बारिश का पानी घुटने तक जमा हो गया था। कई घरों में पानी प्रवेश कर गया जिसके चलते वहां रहने वालों को कठिनाई उठानी पड़ी। रही सही कसर पूरी कर दी बिजली ने। एक तो जलभराव दूसरी तरफ अंधेरे से लोगों को दोतरफा मुसीबत का सामना करना पड़ा। आर्यकन्या डिग्री कालेज, कोठापार्चा आदि जगहों पर भी घुटने तक पानी ने राहगीरों को खूब परेशान किया। सुलाकी चौराहे पर भी शाम को बारिश के कारण काफी देर तक जाम की स्थिति बनी रही। यही नजारा शहर के प्रमुख चौराहों पर भी देखने को मिला।

झूंसी कार्यालय के अनुसार लगातार बारिश से नई झूंसी, आवास विकास कालोनी, पुरानी झूंसी, चक, महीन व छतनाग जाने वाली सड़कों पर जल जमाव हो गया। सरायतकी में जल निकासी की व्यवस्था न होने से कई मार्गो पर पानी भर गया।

-------

कहीं फायदा तो कहीं नुकसान

इलाहाबाद : तेज हवा के साथ आई बारिश से कुछ किसान सहमे तो कुछ खुश भी रहे। जिन क्षेत्रों में धान की फसल पक गई वहां तेज हवाओं के झोंके ने किसानों को डराया पर जहां फसलें अभी तैयार नहीं हैं वहां पानी अमृत के समान साबित हुआ। आलू के लिए भी पानी नुकसानदेह साबित हो रहा है, आलू की क्यारियों में पानी जमा होने से बीज सड़ने का खतरा है।

--------

पानी बना सकता है बीमार

इलाहाबाद : बिन मौसम की बरसात में भीगने से आप बीमार हो सकते हैं। इसलिए इससे बचकर रहना होगा। दो दिन बाद मौसम साफ होने की उम्मीद जताई जा रही है, बावजूद इसके जरा सी असावधानी आपको मुसीबत में डाल सकती है। मौसम विज्ञानी बता रहे कि पानी निकलने के बाद मौसम फिर गरम होगा। हालांकि रात ठंडी होगी। उस समय ठंड और गरम के साथ सामंजस्य बिठाने में वक्त लगेगा। एसआरएन के जनरल फिजीशियन डॉ. मनोज माथुर बताते हैं ऐसे मौसम में बुखार, सर्दी जुकाम सहित अनेक बीमारिया लोगों को अपने शिकंजे में ले सकती हैं। इससे सावधानी बरतने की जरूरत है।