इलाहाबाद : मुरली मनोहर श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव पर मंगलवार को इस्कॉन मंदिर में वैदिक मंत्रोच्चार, घंटा-घड़ियाल के बीच पूजन हुआ। कन्हैया को 108 प्रकार के व्यंजनों का प्रसाद अर्पित कर भक्तों में वितरित किया गया। वहीं इस्कॉन के संस्थापक भक्तिवेदांत श्रील प्रभुपाद की जयंती श्रद्धा से मनाई गई।

इस्कॉन के संत वेणुविजय दास, आचार्य दास, चैतन्य नारायण दास, सोमो दास व आशुतोष दास ने मंत्रोच्चार के बीच 51 दक्षिणायन शंखों में पंचामृत डालकर प्रभुपाद की प्रतिमा का अभिषेक व पूजन किया। प्रभुपाद ने विपरीत परिस्थितियों में विश्वभर में सात सौ केंद्र स्थापित करके भगवद्गीता का प्रचार-प्रसार कैसे किया इस पर प्रकाश डाला गया। वहीं गायिका एकता केसर ने मधुर भजनों से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। एकता ने 'हरे राम-हरे कृष्ण, कान्हा मुझ पर कृपा करें' जैसे अनेक भजनों की प्रस्तुति करके तालियां बटोरीं। राधा-कृष्ण की लीला ने किया मंत्रमुग्ध

--फोटो--

जासं, इलाहाबाद : लायंस क्लब पावन गंगा ने तीज व जन्माष्टमी महोत्सव का भव्य आयोजन किया। अतरसुइया में नीरा टंडन के आवास पर मंगलवार की शाम हुए भव्य आयोजन में क्लब की महिमा सदस्यों ने मोहक नृत्य किया। रंग-बिरंगे परिधानों में सजी महिलाएं 'राधा कैसे न मिले, कान्हा बड़ा नटखट, बताओ कहां मिलेंगे श्याम' जैसे गीतों पर थिरकीं तो खूब तालियां बजीं। वहीं कजरी के सुरीले गीतों के जरिए वाहवाही लूटी। जबकि फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता में सबने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। संयोजक कविता मेहरोत्रा ने कहा कि ऐसे आयोजन दिलों को जोड़ते हैं। क्लब के रीजन चेयरपरसन सतीश टंडन, जोन चेयरपरसन पूनम मेहरोत्रा, अध्यक्ष अनिल टंडन ने कहा कि हर पर्व व उत्सव हमें अपनी संस्कृति के करीब लाते हैं। पूनम मेहरोत्रा, प्रीति टंडन, नीरा टंडन, कृष्णा गुप्ता, मिलन मेहरोत्रा, लिपिका डे, रजनी कक्कड़, नीरज मेहरोत्रा, अजीत मेहरोत्रा, अशोक चड्ढा, सुशील, उमेश कक्कड़ मौजूद रहे। ------

बांकेबिहारी अवतार में अटल

बाबा राम अधार यादव स्मारक समिति समिति के नया कटरा स्थित कार्यालय पर श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर सजाई गई कालिया नाग वध, माखनचोरी, गोपियों संग रासलीला, राजा हरिश्चंद्र, नरसिंह अवतार, कंस वध, शिव बारात जैसी झांकियां हर किसी को लुभाती रही। वहीं पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न स्व. अटल बिहारी वाजपेयी को बाकें बिहारी अवतार में पेश किया गया, जिसे देखकर सभी हर्षित नजर आए। संयोजन हरिश्चंद्र द्विवेदी व संसार सिंह ने किया।

-------

एडिट : 'शेरवा से सियरिनिया कहै..'

जासं, इलाहाबाद : जनमानस को लोक संस्कृति से जोड़ने के उद्देश्य से श्रीपथरचट्टी रामलीला कमेटी परिसर रामबाग में चल रहे सांस्कृतिक कार्यक्रम 'चलो चलें अपनी संस्कृति की ओर' के तीसरे दिन मंगलवार को बिरहा का आयोजन हुआ। दुखीराम यादव व सोना सुहानी के बीच हुए जवाबी बिरहा ने श्रोताओं को बांधे रखा। हंसी ठिठोली के बीच, छेड़छाड़ के स्वर व ताने मारते बिरहा के बोल ने श्रोताओं को लोक संस्कृति के वैभव से जोड़ा। दुखीराम ने 'मानुष मास लियावा हम करबई भोजनवा, शेरवा से सियरिनिया कहै, अंजनी श्राप दिहिन, सगाई से बचाई जियरा सुनाकर श्रोताओं की वाहवाही लूटी। वहीं सोना सुहानी ने 'नयन चित चोर बिना तरसे, परजा रो-रो के देने लगी दुहइया, कन्हैया बड़े फेर में पड़े' सुनाकर तालियां बटोरीं। प्रवक्ता लल्लू लाल गुप्त 'सौरभ' ने बताया कि बुधवार को फौजदार सिंह आल्हा की प्रस्तुति देंगे। अध्यक्षता मुकेश पाठक व संयोजन धर्मेद्र कुमार ने किया। आनंद सिंह, सतीश चंद्र केसरवानी, रामचंद्र पटेल, कन्हैयालाल केसरवानी, राजीव गुप्त 'बिट्टू', गोपाल जी केसरवानी, महेंद्र गुप्त, विष्णु जी अग्रवाल, विजय वैश्य मौजूद रहे।

------

कान्हा के साथ लगा काली का जयकारा

इलाहाबाद : श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के उपलक्ष्य में बैरहना में काली श्वान निकला। माया साहू व टीटू साहू के संयोजन में मने जन्माष्टमी पर्व पर मंत्रोच्चार के बीच श्रीकृष्ण का पूजन हुआ। फिर जयकारों के बीच मां काली का भव्य श्वान निकाला गया। मां काली का दर्शन करने सड़क के किनारे सैकड़ों की भीड़ रही। जय काली, जय श्रीकृष्ण का उद्घोष कर भक्तों ने खुशी व्यक्त की। माया व टीटू ने बताया कि हर बार बैरहना चौराहा स्थित प्राचीन मां काली मंदिर में जन्माष्टमी पर पर्व धूमधाम से मनाया जाता था। लेकिन प्रशासन ने उसे तोड़ दिया, मां की मूर्ति भी हटा दी गई, जिसके चलते इस बार जन्माष्टमी का पर्व परंपरा के अनुरूप नहीं मनाया जा सकता।

Posted By: Jagran