अलीगढ़ : बुजुर्ग कहते हैं कि घर में क्लेश अच्छी नहीं होती। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण एक पति-पत्नी का गृह क्लेश के चलते मार्मिक अंत हो गया। पति की मौत के 22 घंटे बाद पत्नी भी मौत हो गई। मंगलवार शाम को हरदुआगंज रेलवे स्टेशन के समीप रेलवे लाइन के किनारे पापड़ी के पेड़ 26 वर्षीय युवक का शव मिला था। बुधवार शाम करीब चार बजे उसकी पत्नी की नर्सिंग होम में इलाज के दौरान मौत हो गई।

पुलिस को युवक के मोबाइल में मिले नंबरों से मालूम हुआ कि शव सुरेंद्र उर्फ नानक चंद पुत्र विजेंद्र सिंह निवासी गांव फाजिलपुर थाना टप्पल का है, जिसे पोस्टमार्टम के लिए भेजा था। बिजेंद्र की शादी पिछले वर्ष अप्रैल में क्षेत्र के गांव पोखरगढ़ी निवासी रामबाबू कश्यप की पुत्री काजल से हुई थी। स्वजन के मुताबिक पति-पत्नी में क्लेश के चलते काजल ने अपनी ससुराल फाजिलपुर में ही 10 अक्टूबर को फांसी लगा ली थी, जिसे गंभीर अवस्था में सुरेंद्र व स्वजन ने दोधपुर के एक प्राइवेट नर्सिंग होम में भर्ती कराया था। इधर, पत्नी की गंभीर हालत देख सुरेंद्र 11 अक्टूबर को सुबह अस्पताल से भाग गया था। मंगलवार शाम उसका शव हरदुआगंज रेलवे स्टेशन से कुछ दूर साथा निवासी एक किसान के खेत में पापड़ी के पेड़ पर लटका मिला था, जिसकी सूचना नर्सिंग होम में भर्ती उसकी पत्नी काजल को मिल गई थी। बुधवार शाम करीब चार बजे नर्सिंग होम में इलाज के दौरान उसकी भी मौत हो गई। माना जा रहा है कि काजल पति की मौत का गम बर्दाश्त नहीं कर पाई। दोनों की मौत से उनके परिवारों में कोहराम मचा हुआ है।

थाने के चौकीदार ने फंदे पर लटककर कर आत्महत्या

संसू, जवां : थाना के चौकीदार नगौला निवासी अधेड़ ने बुधवार की सुबह कमरे में फंदे पर लटक कर आत्महत्या कर ली। नगौला निवासी जयप्रकाश उर्फ बौला थाना में चौकीदार थे। उनके परिवार में केवल पिता रामस्वरूप व पुत्र जयप्रकाश थे। बकौल रामस्वरूप बुधवार सुबह दोनों ने साथ-साथ चाय पी। उसके बाद रामस्वरूप खुर्जा चले गए। जयप्रकाश घर पर थे। करीब नौ बजे उसने कमरे की छत में लूंगी खूंटी से फंदा डालकर आत्महत्या कर ली। पिता ने थाना पुलिस को अवगत कराया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

Edited By: Jagran