अलीगढ़ (जेएनएन)। तहसील अतरौली  के थाना पालीमुकीमपुर इलाके में हुई प्रेमी युगल की मौत पर हिमांशु वर्मा के परिजन ऑनर किलिंग किए जाने के आरोपों पर अडिग हैं। वे एफआइआर लिखाने रविवार को थाने भी पहुंचे। पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट न मिलने व जांच करने की बात कहकर उन्हें लौटा दिया।

यह था मामला

अतरौली के ब्रह्मïपुरी निवासी प्रियनाथ वर्मा के बेटे हिमांशु (24) का पड़ोस में रहने वाली रूपाली (22) से दो साल से पे्रम संबंध चल रहे थेे। जानकारी होने पर परिजनों ने बंदिशें लगानी शुरू कर दीं, लेकिन प्रेम दीवाने नहीं माने। रूपाली के परिजन पैतृक गांव जिरौली दादों चले गए। बताते हैैं कि शुक्रवार को रूपाली ने हिमांशु को फोनकर बुलाया। फिर दोनों बाइक पर घर से निकल पड़े। रास्ते में हरदोई के पास ट्रक ने टक्कर मार दी। हिमांशु की मौके पर ही मौत हो गई। रूपाली ने मेडिकल कॉलेज पहुंचकर दम तोड़ दिया।

ऑनर किलिंग का आरोप

हिमांशु के पिता प्रियनाथ वर्मा ने ऑनर किलिंग का आरोप लगाया था। उनका कहना था कि पहले बाइक को किसी वाहन से टक्कर मारी गई, फिर हिमांशु की पीट-पीटकर हत्या कर दी। उनका दावा है कि हिमांशु के पूरे शरीर पर चोटों के कई निशान थे। रविवार को भी परिजन आरोपों पर अडिग नजर आए। थाना पालीमुकीमपुर पहुंचकर तहरीर दी।

नहीं मिली है पोस्टमार्टम रिपोर्ट

हिमांशु के भाई प्रेम वर्मा ने बताया कि पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने पर कार्रवाई का भरोसा दिया है। रूपाली के परिजन चुप्पी साधे हैं। पालीमुकीमपुर एसओ प्रदीप कुमार ने बताया कि सिविल लाइंस पुलिस ने दोनों शवों का पोस्टमार्टम कराया था। जिसकी रिपोर्ट नहीं मिली है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण सड़क दुर्घटना में आई चोट, शॉक एंड हेमरेज से होना बताया गया है, फिर भी आरोपों की जांच की जा रही है।

Posted By: Mukesh Chaturvedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप