अलीगढ़, जेएनएन। Dussehra 2022 उत्‍तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ बुधवार को जगह-जगह रावण का पुतला दहन होगा। इसको लेकर अफसर सतर्क हैं। पुलिस व प्रशासन ने सुरक्षा व्‍यवस्‍था की तैयारी कर ली है। मुख्‍य पुतला दहन शहर के नुमाइश मैदान में होगा।  

अलीगढ़ में रावण का पुतलाः कब कहां जलेगा

अलीगढ़ में नुमाइश मैदान में रावण दहन शाम सात बजे होगा। रावण का पुतला साठ फीट का होगा। अहरावण व कुंभकरण के पुतले 35-35 फीट के। 3.50 लाख लागत। जलने से पहले हंसेगा रावण। तलवार चलाएगा।

पिसावा में 20 फीट ऊंचा रावण का पुतला बनाया गया है जिसमें लगभग बीस हजार रूपए की लागत आई है ।कस्बा के जट्टारी पिसावा मार्ग पर रावण टीला पर 5 अक्टूबर को शाम 7:15बजे रावण दहन होगा।

अकराबाद में 20 फ़ीट ऊंचा रावण का पुतला जनपद हाथरस के कस्बा सिकंद्राराऊ से बनवाकर मंगाया जा रहा है, जिसमें करीब 20 हजार की लागत आई है। अकराबाद नानऊ के बीच तिराहे के निकट 5 अक्टूबर को शाम छह बजे रावण दहन होगा।

जट्टारी में 35 फीट ऊंचा रावण का पुतला बनाया गया है जिसमें लगभग बीस हजार रूपए की लागत आई है ।कस्बा के जरेलिया हेतलपुर मार्ग पर रावण टीला पर 5 अक्टूबर को शाम 6:00 बजे रावण दहन होगा।

- इगलास में केवल रावण का पुतला दहन किया जाएगा, जिसकी लंबाई 45 फीट होगी।

- लागत 30 हजार रूपये है।

- कस्बा में हाथरस रोड पर लाल बहादुर शास्त्री कॉलेज के खेल मैदान में शाम पांच बजे दशहरा पर रावण का पुतला दहन किया जाएगा।

- अतरौली में केवल रावण का पुतला दहन किया जाएगा, जिसकी लंबाई 45 फीट होगी।

- लागत 22000 रूपये।

- नगर के पालीमुकीमपुर रोड स्थित नगाइचपाड़ा नहर के निकट शाम पांच बजे दशहरा पर रावण का पुतला दहन किया जाएगा।

हरदुआगंज में 35 फ़ीट ऊंचा रावण का पुतला बनाया गया है, जिसमें करीब 25 हजार की लागत आई है।

रामघाट रोड पर तालानगरी के निकट 5 अक्टूबर को शाम छह बजे रावण दहन होगा।

गंगीरी में कासगंज मार्ग पर 5 अक्टूबर को रावण दहन होगा। जिसमें रावण पुतला की लंबाई 50 फ़ीट , कुम्भकरण पुतला की 45 फ़ीट लंबाई जिसमे लागत लागत करीब 50 हजार रुपये होगी

बरला के गांव गाजीपुर में 3 तारीख को दशहरा को राष्ट्रीय इंटर कालेज के निकट रावण दहन होगा। पुतले की लंबाई करीब बीस फीट होगी। लागत करीब 25 हजार रूपये। विगत वर्षों की भांति मेले का आयोजन भी होगा।

कस्बा छर्रा में बाईं कलां रोड़ स्थित रावण दहन स्थल पर रामलीला महोत्सव के अंतर्गत दशहरा के दिन बुधवार को शाम करीब 5 बजे पुतलों को जलाया जाएगा। रावण के पुतला की लंबाई 65 फीट, कुंभकरण के पुतला की लंबाई 60 फीट व मेघनाथ के पुतला की लंबाई करीब 20 फीट बनाई जा रही है। बरौली-जवां के ठेकेदार जावेद खां ने बताया है कि तीनों पुतलों की लागत करीब एक लाख रुपये है। तथा इस बार रावण का पुतला जलते समय हंसता हुआ एवं सिर के ऊपर चरखी घूमती हुई नजर आएगी।

विजयगढ़ में केवल रावण का पुतला बनाया जाता है। रावण की लंबाई 40 फीट, लागत 40 हजार रुपए, एम जीजी एस इंटर कॉलेज के क्रीडा मैदान में होता है, खासियत: पुतला दहन से पूर्व रावण के विशेष प्रकार के दांत दिखाई देंगे।विजयगढ़ में पुतला दहन 6:30 बजे होगा

जलाली में 50 फीट ऊंचा रावण का पुतला बनाया गया है जिसमें लगभग चालीस हजार रूपए की लागत आई है ।कस्बा के रावण टीला पर 5 अक्टूबर को शाम 6:00 बजे रावण दहन होगा।

खैर में दशहरा के दिन रावण के पुतला दहन होगा दो रावण के पुतला बनाए गए हैं करीब ₹100000 की लागत बताई गई है। अलीगढ़ टप्पल रोड पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस के सामने पड़ाव मैदान में पुतला दहन होगा। शाम करीब 6:00 बजे पुतला दहन होता है। रावण और अहरावण का पुतला बनाया जाता है

गभाना के सोमना में रेलवे पुल के नीचे करीब 25 हजार रुपये की लागत से 40 फिट ऊंचे रावण के पुतले का दहन बुधवार को शाम 6:30 बजे होगा। हालांकि यहां पर रामलीला नही होती है, जबकि पिछले कई वर्षो से पारंपरिक तरीके से काली की भव्य शोभायात्रा व राम

- रावण के युद्ध के बाद पुतले का दहन किया जाता है। कीमत 25 हजार रुपये है, पुतले की खासियत कुछ नही हैं। खासियत सर्फ इतनी है कि गभाना के आस- पास क्षेत्र में सिर्फ विजयदशमी को सोमना में ही रावण के पुतले का दहन किया जाता है, जिसको लेकर उत्साहित लोग बड़ी संख्या में पहुंचते हैं

Edited By: Sandeep Kumar Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट