अलीगढ़, जेएनएन :  बरोला के जंगल में दिन भर वन विभाग की टीम व थाना पुलिस तेंदुए को तलाश करती रही,  लेकिन उसका कहीं पता नहीं लगा। इस दौरान उन्होंने तेंदुए के पैरों के निशान भी तलाश की है जिसमें कुछ निशान तेंदुए से मिलते जुलते जरूर पाए गए, लेकिन आकार में छोटे होने के कारण वन विभाग के अधिकारी इस निष्कर्ष पर नहीं पहुंच सके कि यह निशान तेंदुए की ही हैं।

आदमखोर नहीं है तेंदुआ

वन विभाग के एसडीओ सतीश कुमार ने बताया कि देखा जाने वाला जीव वास्तव में ही तेंदुआ है, लेकिन इससे जनता को डरने की जरूरत नहीं है, यह अभी आदमखोर नहीं है। जंगल में छिपे जंगली जानवरों जैसे सूअर, गीदड़, खरगोश आदि का शिकार करता है। उन्होंने सुरक्षा के तौर पर लोगों से कहा है कि वे अपने खेतों पर दो या तीन लोगों के झुंड में काम करने जाएं। उन्होंने ग्रामीणों को यह भी बताया कि 1 या 2 दिन में पिंजरा की व्यवस्था कर तेंदुआ को पकड़ने के लिए पिजड़ा लगाया जाएगा। फिलहाल पिंजरा अलीगढ़ में नहीं है जिसको मंगवाने के लिए बाहर से व्यवस्था कराई जा रही है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप