अलीगढ़, जागरण संवाददाता। आगरा की एसटीएफ को बड़ी सफलता मिली है। एसटीएफ की इस कार्रवाई से फारच्यून के नाम पर रिफाइंड आयल बेचने वालों के नक्कालों के होश उड़े हुए हैं। छापेमारी के बाद से ही कई भूमिगत हो गए हैं। एसटीएफ ऐसे लोगों की कुंडली खंगालने में जुटी हुई है ताकि अवैध कारोबार के दुर्ग को ढहाया जा सके।

ऐसे मिली आगरा एसटीएफ को सफलता

अडानी विलमार कंपनी की ओर से इस फर्जीवाड़े की शिकायत सीएम पोर्टल पर शिकायत की गई थी। इसके बाद एसटीएफ (स्पेशल टास्क फोर्स) बुधवार को कंपनी के लीगल एडवाइडर गौरव तिवारी के साथ एसटीएफ अलीगढ़ आई। स्थानीय पुलिस के साथ सबसे पहले देहलीगेट क्षेत्र के घुड़ियाबाग इलाके में मोरनी वाला पेंच इलाके में योगेश कुमार गुप्ता की जगन्नाथ ट्रेडर्स पर छापा मारा गया। यहां गोदाम में भारी मात्रा में टिन बरामद किए गए हैं, जिन पर फारच्यून का लेबल लगा था। टीम ने यहां से 15 किलोग्राम के 185 टिन, 480 स्टीकर, 1340 प्लास्टिक के ढक्कन, एक स्टैंपिंग मशीन बरामद की है। आरोपित योगेश को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक, योगेश फारच्यून का स्टीकर लगाकर उसमें नकली रिफाइंड तेल की रीफिलंग करके बेच रहा था। इसके बाद टीम ने बन्नादेवी थाना क्षेत्र के जामाजी वाला पेंच इलाके में मुकुल की गौरव ट्रेडर्स के नाम से फर्म पर छापा मारा, जहां से 37 टीम सीज किए गए। इसी के बगल में प्रवीण वार्ष्णेय की भगवती इटरप्राइसेज से 10, जबकि अमित गोयल की तिरुपति बालाजी ट्रेडिंग कंपनी से 14 बरामद किए गए हैं।

पुलिस ने सभी टिन को कब्जे में लेकर सुरक्षित जगह रखवा दिया है। वहीं चारों फर्मों के सैंपल लिए गए हैं। देहलीगेट थाने में योगेश, जबकि बन्नादेवी थाने में तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। एसपी सिटी कुलदीप सिंह ने बताया कि फारच्यून कंपनी के नाम पर नकली तेल बेचने की सूचना पर आगरा की एसटीएफ की टीम ने कार्रवाई की है। भारी मात्रा में नकली रिफाइंड आयल बरामद हुआ है। इस आधार पर देहलीगेट व बन्नादेवी थाना में दो अलग-अलग मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं। एक युवक को गिरफ्तार कर लिया है।

कार्रवाई की सूचना भी ली

फारच्यून आयल कंपनी के हेड जय चौहान ने बताया कि अलीगढ़ जिले में हमारी कंपनी के उत्पादन की लगातार डिमांड घट रही थी। कंपनी ने इसकी आंतरिक जांच कराई। अलीगढ़ महानगर मेें छह ऐसे कारोबारी चिह्नित किए गए, जिनके यहां हमारी कंपनी के ब्रांड से माल तैयार किया जा रहा था। इसकी शिकायत हमने राज्यस्तरीय प्रशासनिक अफसरों से की। जुटाए गए सबूतों के आधार पर इस संगीन मामले को एसटीएफ लखनऊ से जांच व कार्रवाई की सिफारिश की गई। दो आरोपित तो शटर डाउन कर भाग गए। इनको कार्रवाई की सूचना लीक हो गई थी। डेढ़ लाख रुपये का पैकेजिंग मेटेरियल व 18 लाख रुपये का पैकिंग नकली माल बरामद कर लिया है। जांच जा रही है।