अलीगढ़, जागरण संवाददाता। इस बार अक्टूबर की बारिश ने पिछले एक दशक का रिकार्ड तोड़ दिया है। पिछले दो दिनों में ही जिले में औसतन 60 एमएम से अधिक बारिश दर्ज हो चुकी है। अभी मंगलवार को भी बारिश हाेने की संभावनाएं हैं। आंकड़ा बढ़ भी सकता है। अगर पिछले एक दशक के आंकड़ों पर नजर डालें तो अब तक 2013 में सबसे अधिक बारिश हुई थी। इस साल अक्टूबर में औसतन 41.04 एमएम बारिश हुई थी। 2017 से लेकर 2020 तक चार साल ऐसे गुजरे हैं, जिनमें अक्टूबर में एक भी बूंद बारिश नहीं हुई है।

बारिश से लिहाज से शांत चल रहा था अक्‍टूबर का महीना

बारिश के लिहाज से अक्टूबर का महीना अब तक काफी शांत चल रहा था, लेकिन रविवार शाम से अचानक बारिश की शुरुआत हो गई। पहले रिम-झिम बारिश हुई, लेकिन रात तक झमाझम बारिश पड़ने लगी। तहज 12 घंटे में ही बारिश का आंकड़ा औसतन 30 एमएम से ऊपर चला गया। इसके बाद सोमवार को दिन में भी खूब बारिश हुई। शाम तक यह आंकड़ा औसतन 60 एमएम को भी पार कर गया। पिछले एक दशक में सबसे अधिक बारिश है। 2012 से अब तक अक्टूबर में कभी इतना पानी नहीं पड़ा। अक्टूबर माह में सबसे अधिक बारिश 2013 में हुई थी। तब कुल 41.04 एमएम पानी पड़ा था।

चार साल रहा सूखा

सरकारी आंकड़ों पर नजर डालें तो पिछले साल से अक्टूबर में बारिश का सूखा था। 2017 के बाद से जिले में इस माह एक भी बूंद बारिश नहीं हुई है। अब पांच साल लगातार दो दिन की घनघौर बारिश ने सभी रिकार्ड तोड़ दिए हैं। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि अभी मंगलवार को भी हल्की बारिश की संभावना है। ऐसे में यह आंकड़ा और ऊपर जाएगा।

यह है साल की स्थिति

वर्ष, बारिश

2012, 2.40

2013, 41.04

2014, 12.00

2015, 13.00

2016, 3.40

2017, 00

2018, 00

2019, 00

2020, 00

2021, 60.00

नोट : बारिश एमएम में है।

फसलों के नुकसान में सर्वे के आदेश

बेमौसम बारिश से फसलों में हुए नुकसान के लिए जिले में सर्वे के आदेश हो गए हैं। डीएम सेल्वा कुमारी जे के निर्देश पर एडीएम वित्त एवं राजस्व विधान जायसवाल की ओर से सोमवार को यह आदेश जारी हुआ है। इस आदेश में जिले की खैर, कोल, इगलास, अतरौली व गभाना के एसडीएम व तहसीलदारों को निर्देश दिए हैं कि वह बारिश से प्रभावित फसलों में नुकसान की रिपोर्ट 24 घंटे में जिला स्तर पर उपलब्ध कराएं। यह भी स्प्ष्ट कहा है कि प्लाट टू प्लाट सर्वे किया जाए। इस कार्य में कोई भी लापरवाही नहीं होनी चाहिए। तहसीलों से रिपोर्ट मिलने के बाद प्रशासन इसे शासन में भेजेगा। वहां से नुकसान के हिसाब से मुआवजा राशि तय होगी।

इनका कहना है

बारिश के चलते फसलों में नुकसान की सूचना मिली है। ऐसे में जिले भर में सर्वे के आदेश कर दिए हैं। सभी तहसीलों से रिपोर्ट आने पर शासन में भेजी जाएगी। वहां से जो भी आदेश मिलेंगे, उनका पालन किया जाएगा।

विधान जायसवाल, एडीएम वित्त एवं राजस्व

Edited By: Anil Kushwaha