जासं, अलीगढ़ : गंगा-जमुनी तहजीब की प्रतीक राजकीय औद्योगिक एवं कृषि प्रदर्शनी (नुमाइश) का सोमवार को आधिकारिक रूप से समापन हो गया है। प्रशासन ने दुकानदारों को सामान हटाने के लिए दो दिन समय दिया है। जल्द ही समापन समारोह आयोजित करके बेहतर काम करने वाले लोगों व दुकानदारों को सम्मानित किया जाएगा। दुकानदार कई दिन से नुमाइश बढ़ाने की मांग कर रहे थे, लेकिन विधानसभा चुनाव व कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते प्रशासन ने इस बार नुमाइश न बढ़ाने का फैसला लिया है। सिगर हरवंश रघुवंशी की नाइट से नुमाइश का समापन हुआ।

विधानसभा चुनाव के चलते प्रशासन ने इस बार निर्धारित समय से एक महीने पहले नुमाइश का आयोजन कराने का फैसला लिया है। वैसे हर साल जनवरी फरवरी में नुमाइश का आयोजन होता था, लेकिन इस बार दिसंबर जनवरी में नुमाइश कराई गई है। 19 दिसंबर से नुमाइश का शुभारंभ हुआ था। सोमवार को इसका समापन होना था, लेकिन कई दिन से दुकानदार नुमाइश बढ़ाने की मांग कर रहे थे। शुरूआत में प्रशासन की तरफ से भी दो तीन दिन नुमाइश बढ़ाने का आश्वासन दिया जा रहा था, लेकिन शाम को कोरोना लेकर शासन स्तर से वीडियो कान्फ्रेसिग हुई। इसके बाद अफसरों ने निर्धारित समय पर ही नुमाइश का समापन करने का निर्णय लिया है। ऐसे में सोमवार रात को ही समापन की घोषणा कर दी गई। हालांकि, दुकानदारों के पास सामन हटाने के लिए दो दिन का समय रहेगा। दो दिन तक इन्हें कोई परेशान नहीं करेगा। सिटी मजिस्ट्रेट प्रदीप वर्मा ने बताया कि सोमवार रात को निर्धारित समय पर नुमाइश का समापन कर दिया गया है। अब अगले एक दो दिन में समापन समारोह का आयोजन करके बेहतर कार्य करने वाले लोगों को सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि अगले दो दिनों में दुकानदार आराम से अपना सामान हटा लें। दो दिन तक कोई भी इन्हें परेशान नहीं करेगा। सांस्कृतिक कार्यक्रम सोमवार को ही खत्म कर दिए गए हैं।

Edited By: Jagran