अलीगढ़ [जेएनएन]: डॉक्टर की सलाह पर की गईं योग क्रियाएं कूल्हे में दर्द, गठिया, रीढ़ की हड्डी, जोड़ों के दर्द में राहत दे सकती हैैं। यह राय थी सासनीगेट स्थित त्यागी हॉस्पिटल के हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. रंजन मोहन की। दैनिक जागरण के 'हेलो डॉक्टर' में आमंत्रित डॉ. रंजन ने सलाह दी कि रीढ़ की हड्डी, जोड़ दर्द और सर्वाइकल की स्थिति में बिना डॉक्टर की सलाह के कोई भी अभ्यास और योग न करें। इससे समस्या और बढ़ सकती है। जोड़ों के दर्द का मुख्य कारण यूरिक एसिड होता है...

रीढ़ की हड्डी से दाए पैर के घुटने तक दर्द है। एक्स-रे में रीढ़ की हड्डी बढ़ी हुई आई है। -अंकित, विष्णुपुरी

- बेड रेस्ट करिए व भारी वजन न उठाएं। डिस्क अपनी जगह से खिसक गई है। नियमित रूप से दवाएं लें।

गर्दन के पीछे वाली हड्डी में दर्द है। डाक्टर ने सर्वाइकल बताया है। दवाओं से दर्द कम नहीं हो रहा है। -राकेश शर्मा, क्वार्सी

-कोई नस ज्यादा दब रही है। रीढ़ की हड्डी का एमआरआइ कराकर डॉक्टर से परामर्श लें।

कूल्हे व रीढ़ की हड्डी में दर्द है। चलने में भी परेशानी होती है। -संजय मोहन, सासनीगेट

-रीढ़ की हड्डी के पास की किसी नस में खिचाव आ गया है। नियमित दवा व आराम से ठीक हो जाएगी।

कुछ दिन पहले कई घंटे तक एक करवट से सोता रहा। दो महीने हो गए, तब से कमर में दर्द है। -हिमांशु, सारसौल

- एमआरआइ कराएं और डाक्टर से परामर्श लें। भारी वजन न उठाएं। डिस्क की परेशानी हो सकती है।

बैठने के बाद सीधी खड़ी नहीं हो पाती हूं। चलने में तकलीफ होती है। -रेखा, स्वर्ण जयंती नगर

- कमर व घुटने का एक्सरे कराकर डॉक्टर को दिखाएं। कैल्सियम की कमी से परेशानी होती है और बढ़ती जाती है।

एक साल से कमर में दर्द है। नमाज पढऩे के लिए बैठने के बाद दर्द शुरू हो जाता है। -मोहम्मद असद, भुजपुरा

-कुछ दिन कुर्सी पर बैठकर नमाज पढ़ें। डिस्क की परेशानी हो सकती है। बेड रेस्ट करें। डॉक्टर से जांच कराएं।

रीढ़ की हड्डी में दर्द रहता है। पैर की नस सुन्न हो जाती है। -रामप्रकाश, अलीगढ़

- रीढ़ की हड्डी के पास नस दब गई है। ज्यादा दिन दबी रहेगी तो कमजोर हो सकती है। जल्द इलाज कराएं।

बैठने व लेटने में रीढ़ की हड्डी में दर्द होता है। -अंजुम परवीन, देहलीगेट

- हड्डी में चोट लगी होगी। नरम तकिए पर बैठें। नहाते समय गुनगुने पानी से हड्डी की सिकाई करें। दर्द ठीक हो जाएगा।

इन्होंने भी पूछे सवाल : अतरौली से एनएल गुप्ता, सुरेंद्र नगर से विद्या चौहान, धनीपुर मंडी से राजवीर सिंह, खिरनीगेट से रत्ती लाल, जयगंज से जीडी शर्मा, महेंद्र नगर से रजनी यादव, खेडिया से नीता गुप्ता, जीवनगढ़ से अस्मत अली आदि। 

परिचय

नाम : डॉ. रंजन मोहन

योग्यता : हड्डी रोग विशेषज्ञ

कार्यरत : त्यागी हॉस्पिटल सासनीगेट

इन बातों का रखें ख्याल :

- हड्डी से संबंधित समस्या का एक कारण तनाव भी है। तनाव न लें।

- खुली हवा में योग और व्यायाम नियमित करें।

- विटामिन डी-थ्री और कैल्सियम की कमी से भी हड्डी में परेशानी होती है। ये तत्व पर्याप्त मात्रा में लें।

- शुगर, थायरायड, बीएमआर व वजन को कंट्रोल में रखें।

- स्वीमिंग व साइक्लिंग से हड्डियां  मजबूत होती हैैं।

Posted By: Sandeep Saxena

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस