अलीगढ़ [जेएनएन]। अपराध बढ़ रहे हैं। यात्रा के दौरान तक चोरी व लूट का भय रहता है। अलीगढ़ के रेलवे स्टेशन पर भी कई वारदातें हो चुकी हैं। इसके चलते रेलवे ने सुरक्षा का दायरा बढ़ाने की तैयारी की है। स्टेशन के सातों प्लेटफार्म के साथ ही रेलवे ट्रैक को सीसीटीवी कैमरों से लैस किया जाएगा। तीस नए कैमरे लगाए जाएंगे। इसके लिए प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है। यहां एक कंट्रोल रूम भी बनाया जाएगा, जहां से हरेक गतिविधि पर नजर रखी जा सकेगी। स्टेशन की सुरक्षा व्यवस्था पर प्रस्तुत है रिंकू शर्मा की रिपोर्ट...

ये होंगे फायदे

अभी तक किसी भी वारदात के होने पर सीसीटीवी कैमरे न लगे होने से घटना की सही जानकारी नहीं हो पाती है। ऐसे में आरपीएफ व जीआरपी को वारदातों में शामिल आरोपितों व अपराधियों की धरपकड़ करने में बेहद दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। कैमरे लगने से अपराधियों तक पहुंचा आसान होगा।

टीम ने किया सर्वे

सीसीटीवी कैमरे लगाने के लिए रेलवे के टेलीकॉम विभाग के सदस्यों, जीआरपी, आरपीएफ,  सिग्नल व टेली कम्युनिकेशन विभाग ने दिल्ली की कैमरा लगाने वाली टीम के साथ स्टेशन व तीन सौ मीटर दूरी तक ट्रैक का सर्वे किया। इसमें स्टेशन पर लगे सीसीटीवी कैमरे की रेंज को परखने के साथ ही कैमरे लगाने के लिए स्थान भी चिन्हित किए गए हैं। सर्वे के आधार पर स्टेशन पर करीब 30 नए कैमरे की जरूरत महसूस की गई है।

अभी है ये व्यवस्था

 एएमयू व ताले के लिए प्रसिद्ध अलीगढ़ स्टेशन प्रयागराज रेलवे मंडल में एक महत्वपूर्ण स्टेशन हैं। यात्रियों की सुरक्षा के लिए स्टेशन परिसर में वर्तमान में 15 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। जिसमें प्लेटफार्म नंबर एक, दो व  तीन, टिकट घर आदि का एरिया ही कवर हो पाता है। पूरे स्टेशन की निगरानी नहीं हो पाती। कैमरों की पिक्चर क्वालिटी भी सही नहीं है। ऐसे में किसी भी घटना के होने पर उसकी फुटेज से सही तथ्यों की जानकारी व चेहरों की पहचान नहीं हो पाती है।  जो हिस्सा सीसीटीवी कैमरों की रेंज में नहीं है, उन्हें भी तलाशा गया। सर्वे में कई ऐसे स्पॉट मिले जहां पर सीसीटीवी कैमरे की जरूरत है।

प्लेटफार्म नंबर सात पर है जरूरत

स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या सात पर कई आपराधिक घटनाएं हो चुकी हैं। इसके चलते यहां सीसीटीवी कैमरों की कमी अधिक महसूस की गई है।

कब-कब खली कैमरों की कमी

 - अप्रैल 2019 में आजमगढ़ से अलीगढ़ आ रहे संप्रदाय विशेष के एएमयू छात्र के परिजनों के साथ ट्रेन में सवार कुछ दूसरे संप्रदाय से जुड़े युवकों ने मारपीट की थी। इस घटना को लेकर जीआरपी व आरपीएफ की जमकर फजीहत हुई थी।

महिला व बच्ची का पता  नहीं

दिल्ली के शहादरा स्थित मीत नगर की मालती देवी पत्नी झम्मन लाल  रक्षाबंधन पर अपने मायके कस्बा गंगीरी आई थी। वापस दिल्ली जाने के लिए स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर सात पर पहुंची। तभी एक महिला उसकी एक साल की मासूम बच्ची लक्ष्मी को खिलाने के बहाने से स्टेशन पर घूमने लगी। फिर अचानक गायब हो गई । उस महिला व बच्ची का अभी तक पता नहीं लगा है।

स्टेशन पर बढ़ेंगी सुविधाएं

जनसंपर्क अधिकारी सुनील कुमार गुप्ता का कहन है कि स्टेशन पर सुविधाएं बढ़ाई जा रही हैं। सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए व्यापक व्यवस्थाएं की जा रही हैं। इसी के तहत स्टेशन पर तीसरी आंख का भी दायरा बढ़ाया जा रहा है।

स्टेशन पर नजर

-1866 में हुआ था अलीगढ़ रेलवे स्टेशन का निर्माण

- 07 प्लेटफार्म हैं स्टेशन पर

-15 हजार यात्री करते हैं हर रोज सफर

-12 लाख रुपये के लगभग है प्रतिदिन की आय

-240 ट्रेनें गुजरती हैं यहां से

- 90 ट्रेनों का हैं ठहराव

-64 सुपर फास्ट ट्रेनें रुकती हैं

-26 एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेनों का होता है ठहराव 

150 ट्रेनें यहां नहीं रुकतीं

कैमरों की व्यवस्था

-15 सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं  स्टेशन पर। 

-3 प्लेट फार्म पर ही लगे हैं कैमरे, इनमें प्लेट फार्म नंबर एक, दो व तीन हैं।

-30 सीसीटीवी कैमरे नए लगाए जाने हैं।

-02 नंबर प्लेटफार्म के साथ ही सुर्कलेटिंग एरिया में लगाए जाएंगे नए कैमरे। 

-04 नंबर प्लेट फार्म के अलावा प्लेटफार्म नंबर 05, 06, 07 पर भी लगाए जाने हैं नए कैमरे।  

Posted By: Sandeep Saxena

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस