अलीगढ़, जागरण संवाददाता।  कक्षा एक से आठवीं तक के सरकारी स्कूलों में पढ़ाने वाले शिक्षकों को शिक्षक डायरी मेंटेन कर उसके अनुसार ही शिक्षण कार्य कराना है। मगर कई शिक्षकों के पास शिक्षक डायरी उपलब्ध नहीं कराई गई है। मगर वे अफसरों की कार्रवाई झेल रहे हैं। शिक्षक नेताओं का कहना है कि शासन की ओर से भेजी गई शिक्षक डायरी बीआरसी पर पड़ी हुई हैं, जो शिक्षकों को नहीं दी गईं।

अगले दिन की कार्ययोजना को लिखकर रखना होता है 

शिक्षकों को शिक्षक डायरी में अगले दिन की कार्ययोजना व पाठयोजना को लिखकर रखना होता है। अगले दिन क्या पढ़ाना है? किस विषय के किस अध्याय को पढ़ाना है? आदि एक दिन पहले ही तय करना होता है। यह व्यवस्था शासन की ओर से बनाई गई है। कुछ दिनों पहले अफसरों के निरीक्षण में शिक्षकों के पास यह डायरी नहीं पाई गई तो उन पर कार्रवाई भी की गई। उत्तरप्रदेशीय जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष डा. प्रशांत शर्मा ने कहा कि कई बीआरसी पर शासन से भेजी गईं शिक्षक डायरी बंद पड़ी हैं। मगर कार्रवाई शिक्षक झेल रहे हैं। इस संबंध में बीएसए को सोमवार को ज्ञापन भी सौंपा जाएगा। बीएसए सत्येंद्र कुमार ढाका ने कहा कि लगभग सभी शिक्षकों के पास शिक्षक डायरी है। अगर किन्हीं शिक्षकों को प्राप्त नहीं हुई हैं तो बीआरसी से रिपोर्ट मंगाकर देखा जाएगा। खंड शिक्षाधिकारियों को इस संबंध में रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश देंगे। 

बेटियों को सम्मान देकर किया प्रोत्साहित

अलीगढ़ । मानव महाजन ने दो बेटियों को किया सम्मानित अलीगढ़ : भाजपा नेता मानव महाजन ने अंतरराष्ट्रीय बेटी दिवस पर दो बेटियों को सम्मानित किया। उन्होंने बेटियों को प्राेत्साहित किया। कहा कि कोई भी काम छोटा और बड़ा नहीं होता है, बस कड़ी मेहतन से करें, एक दिन सफलता निश्चित मिलेगी। मानव महाजन ने गूलर रोड पर चाऊमीन की ढकेल लगाकर परिवार का खर्च चलाने वाली शशि कुशवाहा को सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि शशि अन्य बेटियों के लिए एक मिसाल है, उसने जो रास्ता चुना है वह कठिनाइयों से भरा हुअा है, मगर उसके हौसले आसमान से भी ऊंचे हैं। नेशनल बाक्सिंग चैंपियनशिप में प्रदेश स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली भारती शर्मा को भी सम्मानित किया। मानव ने बताया कि भारती में अपार संभावनाएं हैं। वह राष्ट्रीय स्तर पर क्वार्टर फाइनल खेल चुकी हैं। एक दिन जरूर शहर का नाम रोशन करेंगी। मानव ने कहा कि सरकार और उद्यमी जितना पैसा क्रिकेट आदि खेलों पर खर्च करती है, उसका 10 फीसद भी अन्य खेलों पर खर्च कर दिया जाए तो हमारा देश ओलिंपिक में भी सबसे आगे होगा।

Edited By: Anil Kushwaha