अलीगढ़, जेएनएन। स्वदेशी जागरण मंच रविवार को विश्व जागृति दिवस मनाएगा। जिले में 100 स्थानों पर मंच की ओर से कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। यह अभियान कोरोना वैक्सीन के पेटेंट मुक्त कराने को लेकर शुरू गया है। स्वदेशी जागरण मंच के जिलाध्यक्ष रजनीश राघव ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना से पूरी दुनिया दशहत में है। अभी भी इस बीमारी से निकलने का कोई रास्ता नहीं निकल रहा है। सबसे पहले भारत ने वैक्सीन तैयार की। पूरे देश में इसे लगाने की शुरुआत की गई, इससे लोगों को काफी राहत मिली। मगर, वैक्सीन को पेटेंट मुक्त कराने की जरूरत है। जिन भी देशों में वैक्सीन बनी है, यदि वह पेटेंट मुक्त होगी तो सुविधाजनक तरीके से लोगों तक मिल सकेगी। क्योंकि अभी हमारी जरूरत है कोरोना से लड़ने की, पेटेंट की नहीं। 

स्‍वदेशी एक जीवन पद्धति

महानगर संयोजक अमित अग्रवाल ने कहा कि भारतीय संस्कृति में सभी के निरोग की कामना की गई है। इसलिए हम लोग कोई भी काम करते हैं तो विश्व कल्याण की कामना के साथ। हम सब मिलकर वैक्सीन को पेटेंट मुक्त बनाने के लिए अभियान चला रहे हैं। कार्यक्रम प्रभारी डा. राजेश अग्रवाल ने कहा कि आज जरूरत है स्वदेशी को अपनाने की। स्वदेशी एक जीवन पद्धति है, जो विश्व के कल्याण की कामना करती है। हमारे यहां ऋषि-मुनि भी विश्व के कल्याण के लिए काम करते थे। उसे हम भूलते जा रहे हैं, इसलिए वैश्विक बाजार हावी होता जा रहा है, यदि उसने पूरी दुनिया के बाजार पर पकड़ बना ली तो सिर्फ व्यापार होगा, व्यवहार नहीं।

ये करेंगे कार्यक्रम

जागृति कार्यक्रम में अलग-अलग लाेगों को जिम्मेदारी दी गई थी। डा. सुमन रघुवंशी, डा रोली अग्रवाल, अमित ठाकुर, छोटू पंडित व रुद्रा पंडित, हृदेश गुप्ता, आदर्श भारद्वाज, अजय सारस्वत, सिविल लाइन, अंकुर गुप्ता, विनय सिंह, शोभित चौधरी,विनय शर्मा, गुंजित वार्ष्णेय व विजय गुप्ता को अलग-अलग जिम्मेदारी दी गई है, जिससे कार्यक्रम को सफल बनाया जा सके। स्वदेशी जागरण मंच केंद्रीय पदाधिकारी डा राजीव अग्रवाल व डा. इंदु वार्ष्णेय के दिशा-निर्देशन में कार्यक्रम होंगे।