अलीगढ़ (जेएनएन)। एएमयू में निलंबित चल रहे छात्र बासिम बिलाल को परीक्षा में बैठने पर सवाल उठ खड़े हुए हैं।  पुलवामा में 13 फरवरी को आत्मघाती हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ जवानों के पर विवादित टिप्पणी करने के आरोप में बासिम को निलंबित किया गया था। उसके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज हुआ था। इंतजामिया ने उसे परीक्षा की अनुमति दे दी है। तीन मई का वह पेपर दे चुका है। सात मई के पेपर में भी बैठेगा। इस पर छात्र नेता अजय सिंह ने आपत्ति जताते हुए कहा है कि  जब निलंबित छात्र को परीक्षा देने की अनुमति मिल गई है तो मुझे भी मिलनी चाहिए। 

एएमयू इंतजामिया पर लगाए आरोप

हिंदूवादी नेता दीपक शर्मा ने कहा है कि 12 फरवरी को एएमयू सर्किल पर हुए बवाल में अजय को निलंबित किया गया था। अजय को परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी है। इंतजामिया का यह दोहरा चरित्र है। मांग अजय को भी परीक्षा में बैठने की अनुमति दी जाए। सोशल मीडिया पर भी अजय के पक्ष में लोग खड़े हो गए हैं। अमित गोस्वामी व अर्जुन सिंह भोलू ने निलंबित छात्र को परीक्षा में शामिल होने पर आपत्ति जताई है।

निलंबित छात्र ले सकते हैं परीक्षा में बैठने की अनुमति
एएमयू प्रवक्ता प्रो. शाफे किदवई के अनुसार निलंबित छात्र अगर परीक्षा में बैठने की अनुमति मांगता है तो दी जाती है। जांच पूरी होने तक परीक्षा परिणाम जारी नहीं किया जाता। अगर परीक्षा में बैठने की अनुमति न दी जाए और वह जांच में क्लीन चिट पा लेता है तो कॅरियर पर ही असर पड़ेगा। अजय सिंह परीक्षा मं शामिल होने की अनुमति मांगते हैं तो उन्हें भी दी जाएगी।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस