मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

अलीगढ़, जेएनएन। तालानगरी अलीगढ़ के टप्पल में ढाई वर्ष की मासूम की हत्या के बाद से तनाव बरकरार है। ढाई साल की बच्ची की हत्या के बाद बिगड़े माहौल को शांत करने में जुटे प्रशासन ने टप्पल समेत खैर तहसील क्षेत्र की इंटरनेट सेवाएं रविवार शाम पांच बजे से सोमवार रात 12 बजे तक बंद रखीं, ताकि सोशल मीडिया के जरिये भ्रामक सूचना व अफवाहें न फैल सकें। हालात का जायजा लेने सोमवार को एडीजी (अपर पुलिस महानिदेशक) आगरा जोन अजय आनंद टप्पल पहुंचे। उन्होंने डीएम चंद्रभूषण सिंह व एसएसपी आकाश कुलहरि के साथ घंटेभर बात कर दिशा-निर्देश दिए।

सोमवार को टप्पल में माहौल शांत रहा। बाजार सामान्य दिनों की तरह खुले। पुलिस ने रविवार को यमुना एक्सप्रेस वे जाम करने वाले 60 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। उधर, टप्पल थाने के इंस्पेक्टर केपीएस चाहल समेत पांच पुलिस कर्मियों के निलंबन के बाद अब सीओ खैर पंकज श्रीवास्तव को भी हटा दिया गया है। 

टप्पल में 30 मई को बच्ची घर के बाहर से खेलते समय गायब हुई थी। दो जून की सुबह उसका शव घर से 100 मीटर दूर जाहिद के मकान के सामने खंडहर में कूड़े के ढेर में छिपा मिला। पुलिस ने मामले में जाहिद, पत्नी सबुस्ता, भाई मेहंदी हसन व पड़ोसी असलम को जेल भेज दिया था। आरोपितों को फांसी की सजा दिलाने की मांग को लेकर कुछ संगठनों ने सोशल मीडिया पर रविवार को टप्पल चलो का आह्वान किया था, जिसके चलते पुलिस ने नाकाबंदी की थी। भीड़ को टप्पल में कहीं रुकने नहीं दिया।

प्रदर्शनकारियों से पुलिस की झड़प हुई थी। बाजार बंद रहे। प्रदर्शनकारियों ने करीब आधे घंटे एक्सप्रेस वे जाम किया था। ये लोग पीड़ित परिवार से मिलने की जिद पर अड़े थे। पुलिस के रोकने पर नारेबाजी की, तब लाठियां फटकार कर पुलिस ने खदेड़ा। पुलिस मुकदमा दर्ज कर इन पर पर बलवा, सरकारी काम में बाधा डालने, मार्ग अवरुद्ध करने के आरोप लगाए गए हैैं।

दूसरी ओर सोमवार को तनाव के बीच टप्पल में सुबह साढ़े सात बजे से ही बाजार खुल गए, जिससे रौनक लौटने लगी, हालांकि आवाजाही कम थी। पीडि़त परिवार के घर के आसपास भी पुलिस तैनात रही।

सीएम से मिलने लखनऊ नहीं जाना चाहता पीड़ित परिवार

सांसद सतीश गौतम व खैर विधायक अनूप वाल्मीकि पीड़ित परिवार से मिलने टप्पल पहुंचे। उन्होंने मुख्यमंत्री से मुलाकात कराने की बात कही, लेकिन परिवार तैयार नहीं हुआ। बच्ची के पिता का कहना था कि मुख्यमंत्री यहां भी तो आ सकते हैैं। हम उनसे मिलने लखनऊ नहीं जाएंगे। बच्ची के पिता का कहना है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तो यहां भी आकर मेरे परिवार को सांत्वना दे सकते हैं। मैं तभी संतुष्ट होऊंगा, जब हत्यारों को सजा मिलेगी।

'फांसी देना करणी सेना भी जानती है'

पीड़ित परिवार से मिलने के लिए सोमवार को करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सूरज पाल प्रधान व ऑल इंडिया महिला कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष सुष्मिता देव समर्थकों के साथ पहुंचीं। सूरजपाल ने दोषियों को फांसी की सजा देने की मांग की। कहा, ऐसे लोगों को फांसी देना करणी सेना भी जानती है। उन्होंने पीड़ित परिवार को सुरक्षा व आर्थिक मदद देने की भी मांग की। सुष्मिता देव ने इस घटना को लेकर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए और मांग की कि पीड़ित परिवार को न्याय मिले।

बरात पर हमले में छह पर मुकदमा

टप्पल के गांव जहानगढ़ में रविवार को हरियाणा के नूंह मेवात के सिंघार गांव से आई बरात पर हुए हमले में छह अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। बरात टप्पल क्षेत्र के गांव नरवारी जा रही थी। हमलावरों ने दो स्कॉर्पियो में तोडफ़ोड़ कर उनमें सवार बरातियों को पीटा था।

टप्पल कांड में चार्जशीट की तैयारी

पुलिस चार्जशीट की तैयारी में है। पुलिस के मुताबिक सभी आरोपित जेल भेजे जा चुके हैं। विवेचना भी रफ्तार पकड़ रही है। फोरेंसिक रिपोर्ट मिलते ही चार्जशीट दाखिल कर दी जाएगी।  जांच के लिए स्लाइड आगरा लैब भेजी थी। जिसकी रिपोर्ट यह तय करेगी कि बच्ची के साथ दुष्कर्म हुआ था या नहीं।

आरोपितों को संरक्षण की बात  सही मिली तो होगी कार्रवाई

एसएसपी आकाश कुलहरि ने कहा कि हत्या में शामिल आरोपितों को जेल भेज दिया गया है। परिवार के लोग भी संतुष्ट हैं। धारा 201 (साक्ष्य छिपाने के प्रयास) बढ़ाई गई है। एनएसए की कार्रवाई की जा रही है। फॉरेंसिक रिपोर्ट के आधार पर पॉक्सो एक्ट की कार्रवाई की जाएगी। पूरा जोर विवेचना को जल्द खत्म कर फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमा शुरू कराने पर है। आरोपितों को संरक्षण मिलने की बात जांच में यदि पाई जाती है तो संबंधित पर कार्रवाई होगी।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Dharmendra Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप