जागरण संवाददाता, अलीगढ़ : कृषि विभाग की टीमों ने गुरुवार को तहसील स्तर पर खाद और बीज की 56 फर्मों पर छापेमारी की। यहां उर्वरकों की गुणवत्ता, तय मूल्य पर बिक्री, स्टाक का सत्यापन आदि का परीक्षण किया गया। दुकानों से खाद-बीज के 10 नमूने भी लिए गए। अनियमितता मिलने पर एक फर्म का लाइसेंस निलंबित किया गया, दो दुकानों को कारण बताओ नोटिस दिए हैं।

जिला कृषि अधिकारी डा. रामप्रवेश ने बताया कि किसानों को तय मूल्य पर उर्वरक उपलब्ध कराया जा रहा है। जिले में उर्वरक की कोई कमी नहीं है। 4000 मीट्रिक डीएपी उपलब्ध है। गुरुवार को तीन हजार मीट्रिक टन इफको एनपीके, 988 मीट्रिक टन एनएफएल की डीएपी उपलब्ध हो गई है। 23 अक्टूबर को 2200 मीट्रिक टन कृभको डीएपी, 25 अक्टूबर को 800 मीट्रिक टन आइपीएल डीएपी, 500 मीट्रिक टन आइपीएल एनपीके, 27 अक्टूबर को 1350 मीट्रिक टन एनपीके व 29 को 800 मीट्रिक टन आइपीएल की डीएपी उपलब्ध हो जाएगी। उवर्रकों की कमी नहीं रहने दी जाएगी। किसान उचित मात्रा में उवर्रकों का इस्तेमाल करें।

..............

पूर्ति विभाग की टीम ने दो पंपों की जांच

जासं, अलीगढ़ : पूर्ति विभाग की टीम ने डीएसओ राजेश कुमार सोनी के नेतृत्व में गुरुवार को शहर की दो पंपों की जांच की। टीम ने सबसे पहले बन्ना देवी जीटीरोड स्थित खैर वाला पेट्रोलियम डीलर आइओसीएल पर पहुंची। यहां पर कोनिकल मापक से 3 बार माप करने पर डीजल, पेट्रोल, एक्स्ट्रा प्रीमियम की मात्रा सही पाई गई। डेंसिटी एवं स्टाक भी अनुमान सीमा में पाया गया। इसके बाद नुमाइश मैदान से सारसौल चौराहे के बीच मेसर्स गिर्राज फ्यूल प्वाइंट की जांच की गई। इसमें भी डीजल, पेट्रोल की मात्रा सही पाई। टीम में क्षेत्रीय खाद्य अधिकारी लालजी पाल, विक्रय अधिकारी हिदुस्तान पेट्रोलियम शाहनवाज अहमद, वरिष्ठ वार्ड बाट माप निरीक्षक मनोज कुमार, पूर्ति निरीक्षक प्रमोद कुमार व दिनेश कुमार पटेल मौजूद रहे।

Edited By: Jagran