जागरण संवाददाता, अलीगढ़ : नियमों का पालन न करने वाले अल्ट्रासाउंड संचालकों के खिलाफ प्रशासन ने सख्त रुख अपनाया है। अनियमितताएं बरतने पर सिटी मजिस्ट्रेट प्रदीप वर्मा की ओर से शहर के 23 अल्ट्रासाउंड संचालकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। इस नोटिस में संचालकों को सात दिन का समय दिया गया है, अगर इस समय में खामियां दुरुस्त कर संतोषजनक जवाब नहीं मिलता है तो फिर लाइसेंस निलंबन की कार्रवाई होगी। मुकदमा भी दर्ज कराया जा सकता है। प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त टीमों की जांच रिपोर्ट पर यह कार्रवाई हुई है।

शासन के निर्देश पर शहर में प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की टीमें कई दिनों से अल्ट्रासाउंड सेंटरों की जांच कर रही हैं। अब तक करीब सौ से अधिक अल्ट्रासाउंड की जांच पूरी हो चुकी हैं। इनमें शहर के कुल 23 अल्ट्रासाउंड संचालकों के यहां खामियां मिली हैं। कहीं पर लाइसेंस धारक ही नहीं मिले हैं तो कहीं पर गर्भवती महिलाओं से भ्रूण की जांच न कराने संबंधी अनिवार्य फार्म भी नहीं भरवाए जा रहे हैं। जिस केंद्र के लिए मशीन आवंटित हैं, वहां न मिलकर दूसरे केंद्रों पर मिी हैं। कई केंद्रों पर तो चिकित्सकों की नेम प्लेट तक नहीं मिली है। ऐसे में प्रशासन को आशंका है कि शहर में कुछ केंद्र लाइसेंस से भिन्न संचालित हो रहे हैं। ऐसे में अब सिटी मजिस्ट्रेट प्रदीप वर्मा ने इन संचालकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। उन्होंने बताया कि नोटिस जारी कर सभी संचालकों से सात दिन में जवाब मांगा गया है। अगर संतोषजनक जवाब नहीं आता है तो फिर लाइसेंस निलंबन की कार्रवाई की जाएगी। जरूरत पड़ने पर मुकदमा भी दर्ज कराया जा सकता है।

अभी केवल शहर में ही 23 संचालकों को ही चिह्नित कर नोटिस दिया गया है। देहात में भी कई अल्ट्रासाउंड सेटर संचालक नियमों व मानकों पालन नहीं कर रहे हैं।

Edited By: Jagran