अलीगढ़ (जेएनएन)। पिछले कार्यकाल में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय को लेकर हमलावर रहे भाजपा सांसद सतीश गौतम ने दूसरी बार जीतते ही गरजना शुरू कर दिया। आखिरी राउंड के नतीजे का इंतजार किए बगैर ही उन्होंने कहा कि अब जिन्ना की तस्वीर पाकिस्तान भिजवाएंगे। देश को बांटने वाले व्यक्ति की तस्वीर का अपने देश में कोई काम नहीं है।

दिलवाएंगे आरक्षण

मीडिया से बातचीत में सतीश गौतम ने कहा कि एएमयू में दलितों को आरक्षण आरक्षण दिलवाकर रहेंगे। जिन्ना की तस्वीर को लेकर पहले भी मुद्दा उठाया था, लेकिन कुछ नहीं हो सका। इस पर सांसद ने कहा कि पिछली बातें भूल जाइए। अब जिन्ना की तस्वीर को पाकिस्तान भेजा जाएगा। तस्वीर की वहां जरूरत होगी, हमारे यहां नहीं। केंद्र की मदद से एएमयू चलता है, उसके नियम-कानून को मानना पड़ेगा। अनुसूचित जाति- जनजाति के ब'चे एएमयू में शिक्षा से वंचित रह जाते हैं। आरक्षण मिलने पर वे यहां दाखिला लेकर पढ़ सकेंगे। उन्हें नौकरी भी मिल सकेगी। एएमयू कुलपति पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने मेरे कई पत्रों का जवाब नहीं दिया है, जो असंवैधानिक है। अब देखता हूं कि वो जवाब कैसे नहीं देते हैं? संविधान के नियम के तहत रहकर सभी को काम करना होगा। सतीश के बयान को लेकर एएमयू छात्र नेताओं ने नाराजगी जताई है।

पहले संसद व अन्य स्थानों से हटवाएं तस्वीर : अंसारी

एएमयू यूनियन हॉल से जिन्ना की तस्वीर हटाने को लेकर सांसद सतीश गौतम के बयान से राजनीति गरमा गई है। छात्रसंघ के पूर्व उपाध्यक्ष नदीम अंसारी ने कहा कि जिन्ना आस्था नहीं, इतिहास है। इतिहास को मिटाया नहीं जा सकता। उस वक्त यह नहीं पता था कि भारत का बंटवारा होगा। सांसद पहले संसद व अन्य स्थानों पर लगी जिन्ना की तस्वीरों को हटवाएं। जेएनयू से टुक ड़े टुक ड़े गैंग में कन्हैया कुमार के साथी रहे शिक्षक अकबर चौधरी को हटवाएं। एएमयू में अवैध रूप से नियुक्त शिक्षकों को भी हटवाएं। जिन्ना की तस्वीर हटाने को लेकर दो मई 2018 को एएमयू में काफी बवाल हुआ था। छात्रसंघ को पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी को आजीवन सदस्यता देने का कार्यक्रम स्थगित करना पड़ा था।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sandeep Saxena