अलीगढ़, जागरण संवाददाता: Heavy Rains in Aligarh यूपी के अलीगढ़ में मौसम की पिछली मूसलाधार बारिश से जिम्मेदार अफसरों ने परिसर में हुए जलभराव से कोई भी सबक नही लिया लिहाजा मौसम की दूसरी दो घंटे की मूसलाधार तेज बारिश ने नाले एवं नालियों की सफाई व्यवस्था की एक बार फिर से पोल खोल कर रख दी। कासिमपुर परियोजना (Kasimpur Project) की आवासीय कालोनियों के गंदे पानी की निकासी को लेकर जवां नगर पंचायत एवं परियोजना प्रबंधन सालाना लाखों रूपया खर्च करता है।

जलभराव की समस्या से लोगों में आक्रोश

रविवार को हुई मूसलाधार बारिश के चलते परियोजना की सड़के ताल-तलैया में तब्दील हुई साथ ही आवासों के सामने भी जलभराव देखा गया। आवासीय परिसर में रह रहे कर्मचारियों को बारिश के दिनों में जलभराव की समस्या का सामना अक्सर करना पडता है। इसको लेकर सिविल अधिकारियों एवं नगर पंचायत के खिलाफ तमाम संगठनों में आक्रोश व्याप्त है।

लाखों रूपये हुए खर्च लेकिन समस्या जस की तस

तेज बारिश से खेत खलियान तो भरे ही साथ ही परियोजना की कालोनी भी इससे अछुती नहीं रही। परियोजना में लाखों रूपये सफाई पर खर्च करने के बावजूद गंदे पानी की निकासी नहीं हो पा रही है।

सफाई के बाद नहीं हटाई थी गंदगी

अभी चंद रोज पहले ही जवां नगर पंचायत एवं परियोजना प्रबंधन की तरफ से बारिश के मौसम को देखते हुए नालों की कीचड़ निकाली गई थी लेकिन नाले से निकाली गई कीचड़ का आज तक कोई भी निस्तारण नही हो सका। तेज बारिश से कीचड़ दोबारा नालों में ही बह गई।

ओवरफ्लो नालों ने खोली प्रबंधन की पोल

अधिकारियों की तरफ से सफाई के बाद हुए सर्वे कर काम को किस तरह पास कर दिया गया उसकी पोल रविवार को ओवर फ्लो नालों ने खोल कर रख दी। संगठनों का कहना है अगर नालों की सफाई ठीक से हो गई होती तो आज ये नौबत न आती।

Edited By: Mohammad Aqib Khan