अलीगढ़, जागरण संवाददाता। Aligarh Crime : खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन की मंडलीय टीम ने गुरुवार को शहर के fafal market में बड़ी कार्रवाई की। प्राइड फार्मा के नाम से बिना लाइसेंस संचालित गोदाम को सील कर दिया। यहां करीब ढाई से तीन करोड़ की दवा रखीं हुई थी। टीम ने गोदाम से अलग-अलग 15 दवाओं के लिए नमूने भरे हैं। इन्हें जांच के लिए लैब में भेजा जा रहा है। दोपहर एक से लेकर रात 10 बजे तक यह कार्रवाई चली। अफसरों के मुताबिक बिना बिल के ही गोदाम में दवाओं की आपूर्ति हुई थी।

काफी दिनों से मिल रही थी शिकायत :  खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग अफसरों के मुताबिक फफाला के pharmaceutical market में मुकेश कश्यप के नाम पर एक medical store license है। पिछले काफी दिनों से शिकायत मिल रही थीं कि इनके द्वारा एक अन्य गोदाम का भी संचालन किया जा रहा है।

गुरुवार को सहायक आयुक्त पूरन चंद्र के नेतृत्व में अलीगढ़, हाथरस व कासगंज के औषधि निरीक्षक की मंडलीय टीम दोपहर एक बजे फफाला बाजार पहुंच गई। यहां पर मुकेश कश्यप के गोदाम की जांच की गई। दस्तावेज भी देखे गए। इसमें सामने आया कि बिना लाइसेंस के ही गोदाम का संचालन हो रहा था। इसके बाद टीम ने मौके से दवाओं के नमूने भरने शुरू किए। अलग-अलग दवाओं के नमूने लिए गए। गोदाम में करीब तीन करोड़ की दवाएं थी। टीम ने इसे सील कर दिया है। रात 10 बजे तक यह कार्रवाई हुई।

सहायक आयुक्त पूरन चंद्र ने बताया कि गोदाम संचालन द्वारा पिछले काफी समय से बिना लाइसेंस के ही संचालन किया जा रहा था। शिकायत के बाद यह कार्रवाई की गई। प्रथम दृष्टया दवाएं नकली प्रतीत नहीं होती हैं, लेकिन फिर भी गुणवत्ता परखने के लिए लैब में जांच कराई जा रही है। उन्होंने बताया कि बिना लाइसेंस गोदाम संचालन के लिए न्यायालय में वाद दायर किया जाएगा।

कार्रवाई को लेकर गोदाम संचालक मुकेश कश्यप से भी बात करने का प्रयास किया गया, लेकिन उनका नंबर बंद था। कार्रवाई के दौरान अलीगढ़ के औषधि निरीक्षक अलीगढ़ हेमेंद्र चौधरी, कासगंज के रमेश चंद्र व हाथरस के दीपक कुमार शामिल रहे।

लाइसेंस जरूर बनवा लें केमिस्ट : District Chemist and Druggist Association के अध्यक्ष शैलेंद्र सिंह टिल्लू ने कहा कि जांच में कोई भी दवा नकली नहीं मिली है। केवल गोदाम संचालक के पास लाइसेंस नहीं था। जिले के सभी केमिस्ट से अपील है कि वह अपना लाइसेंस जरूर बनवा लें। जिससे भविष्य में कभी किसी के भी यहां इस तरह की कोई कार्रवाई न हो। केमिस्ट पूरी ईमानदारी व नियमों के तहत काम कर रहे हैं।

Edited By: Anil Kushwaha