जासं, अलीगढ़ : कोरोना संक्रमण की समीक्षा बैठक में शनिवार को डीएम चंद्रभूषण सिंह कहा कि सभी अफसर व कर्मचारी शासन के निर्देश के हिसाब से काम करें। सीडीओ आक्सीजन वितरण के लिए हेल्पलाइन विकल्प बनाएं। इसके लिए डीआरडीए के पीडी को नोडल अधिकारी बनाया जाए। दो वाट्सएप नंबर जारी करें। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीज आवश्यकतानुसार आरटीपीसीआर रिपोर्ट, डाक्टर का पर्चा, पल्स रीडिग व आक्सीजन सेचुरेशन का फोटो व आधार कार्ड हेल्पलाइन नंबर पर वाट्सएप करेंगे। सिटी मजिस्ट्रेट वरीयता के आधार पर आक्सीजन देंगे। आक्सीजन वितरण के लिए सिटी मजिस्ट्रेट नोडल अधिकारी होंगे। दवाओं के लिए एडीएम वित्त नोडल अधिकारी होंगे। सैनिटाइजेशन के लिए शहरी/नगरीय क्षेत्रों में सहायक नगर आयुक्त व अधिशासी अधिकारी नोडल अधिकारी नामित होंगे। निजी अस्पतालों में बेड की उपलब्धता के संबंध में एडीएम सिटी नोडल अधिकारी होंगे। निगरानी समितियों के लिए एडीएम प्रशासन जिम्मेदारी संभालेंगे। अज्ञात मरीजों का अंतिम संस्कार नगर निगम व पंचायती राज विभाग कराएंगे। डीएम ने कहा कि कोई भी अस्पताल कोरोना मरीजों को भर्ती करने से मना नहीं करेगा। इलाज के लिए सरकार राजकीय दर निजी अस्पतालों का भुगतान करेगी। उन्होंने निर्देश दिए कि कंट्रोल रूम में दो बडे़ टीवी लगवाए जाएं। इनके माध्यम से सभी निजी अस्पतालों पर नजर रखी जाए। किसी भी अस्पताल में लापरवाही नहीं होनी चाहिए। मरीजों को सही इलाज मिलना चाहिए। हम सभी को मिलकर इस माहमारी से लड़ना है। यह तभी संभव है, जब आपस में सहयोग करेंगे। इसमें निजी अस्पताल संचालकों को भी आगे आना होगा, क्योंकि पैसा ही सब कुछ नहीं है। जान बचाना पहली प्राथमिकता होनी चाहिए।