अलीगढ़, जेएनएन ।  कोरोना महामारी के बीच गंगा-यमुना में शव प्रवाहित करने की घटनाओं पर अब कार्रवाई हाेगी। सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर अब डीएम चंद्रभूषण सिंह ने समिति का गठन कर दिया है। प्रधान व सचिवों को इस समिति में शामिल किया गया है। जिले के एक दिवसीय दौरे के दौरान सीएम योगी ने जिला प्रशासन को इसके निर्देश दिए थे। सूबे के कई जिलों से इस तरह की घटनाओं की शिकायतें आई थीं।

कोरोना की दूसरी लहर

कोरोना की दूसरी लहर के बीच गंगा व यमुना तट से सटे जिलों में शवों को नदी में बहाने की घटनाएं कुछ ज्यादा ही घट रही हैं। वाराणसी, गाजीपुर, चंदौली व भदोही में गंगा नदी में लगातार शव मिल रहे हैं। प्रशासन ने इन शवों को दफना दिया है। पिछले दिनों सीएम योगी आदित्यनाथ भी जिले के एक दिवसीय दौरे पर आए थे। इस पर उन्होंने निर्देश दिए थे कि गंगा व यमुना नदी को साफ करना सभी की जिम्मेदारी है। ऐसे में इन नदियों में शव बहाने की घटनाएं सामने आना गंभीर बात हैं। ऐसे में सभी जिलों में इसके लिए निगरानी समिति बनाई जाए। अब जिले में इसके लिए समिति बना दी हैं। गंगा से दादों, सांकरा का क्षेत्र लगता है तो यमुना से टप्पल का क्षेत्र लगता है।ऐसे में इन दोनों क्षेत्रों से सटे गांव में पंचायती राज विभाग द्वारा समिति गठित की गई हैं। गांव में प्रधानों नदी में शव न बहाए जाएं। इस पर निगरानी की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी। डीएम चंद्रभूषण सिंह ने बताया कि निगरानी समितियों का गठन किया जा रहा है।