अलीगढ़  जेएनएन : उतर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ में भाजपा सांसद सतीश गौतम की चुनौती के बाद  प्रशासन ने अपना प्रस्‍ताव वापस ले लिया है।  नुमाइश मैदान में पेट्रोल पंप का प्रस्ताव निरस्त कर दिया गया है, अब यहाँ मैरिज होम बनाने के फैसले हुआ है। यह गरीब लोगों के लिए फ्री व न्यूनतम किराये के लिए रहेगा। डीएम चंद्रभूषण सिंह का कहना है कि सांसद की जिले में व्यापक जन भावनाएं हैं। ऐसे में इस फैसले को लिए गया है। इससे पहले एक सरकारी पेट्रोल पंप का प्रस्ताव आया था। जिस पर विचार चल रहा था, लेकिन अब मैरिज होम बनाने के फैसले हुआ है। इस जमीन पर कुछ लोग कब्जा करना चाह रहे हैं। उसे रोकने के लिए जमीम का प्रयोग किया जा रहा है। डीएम का कहना है कि कुछ भूमाफिया इस बेशकीमती जगह पर कब्जा करना चाह रहे थे, लेकिन इस हरगिज नहीं होने दिया जाएगा। नुमाइश जनता के लिए है। इसका प्रयोग शहर के जनहित में ही होगा। मैरिज होम का निर्माण होगा। माफिया के खिलाफ़ करवाई होगी। पहले भी कब्जा हटाया जा चुका है।

ऐसे तो नुमाइश मैदान का अस्तित्व ही खत्म हो जाता  

नुमाइश मैदान में प्रशासन द्वारा पेट्रोल पंप की अनुमति देने से अलीगढ़ में सरगर्मी बढ़ गई? है। जनप्रतिनिधि से लेकर आम आदमी तक हैरान हैं कि आखिर नुमाइश मैदान में  पेट्रोल पंप की कैसे अनुमति दे दी गई?  जबकि मसूदाबाद और जीटी रोड पर देव मोटर्स के पास पहले से ही पेट्रोल पंप मौजूद है। ऐसे में यदि नुमाइश में पेट्रोल पंप लग गया तो 100 वर्षों से अधिक समय से चली आ रही नुमाइश नहीं लग पाएगी। हेलीकाप्टर नहीं उतर पाएंगे, जिससे बड़ी सभाएं नहीं हो पाएंगी। पटाखा बाजार, मंगल बाजार आदि सब बंद हो जाएंगे। यानि नुमाइश मैदान का अस्तित्व ही खत्म हो जाएगा। 

सांसद ने दी थी प्रशासन को चुनौती

सांसद सतीश कुमार गौतम ने प्रशासन के खिलाफ ताल ठोक दी है। उन्होंने सीधे चुनौती दे दी है कि उन्हें किसी भी हद तक जाना पड़े, मगर वह नुमाइश मैदान में पेट्रोल पंप नहीं लगने देंगे। सांसद ने भी नुमाइश मैदान के इतिहास को लेकर प्रशासन के सामने सवाल खड़े कर दिए। कहा, इससे तो नुमाइश का अस्तित्व की खत्म हो जाएगा। वर्षों से चली आ रही प्रदर्शनी तक नहीं लग पाएगी। सांसद ने कहा कि सीएम योगी आदित्यनाथ से मिलकर उन्होंने प्रशासन के क्रियाकलापों के बारे में सारे प्रकरण को रख दिया है। प्रदर्शनी आमजनता की है। इसलिए इसकी कार्यकारिणी में शहर के लोग होते हैं। स्थल की जनता का मालिकाना हक जनता का है। ऐसे में नुमाइश मैदान को किसी निजी व्यक्ति को देना असंवैधानिक है। सांसद ने कहा कि उक्त स्थान पर पेट्रोल पंप की कोई आवश्यकता नहीं है। एक किमी के अंदर दो-दो पेट्रोल पंप हैं। सांसद ने कहा कि सीएम कोरोना संकट में जन-जन की सेवा करने में लगे हुए हैं, वहीं प्रशासनिक अधिकारी व कर्मचारी सांठगांठ में लगे हुए हैं। सांसद ने यहां तक कहा कि वह इस प्रकरण में जो भी लिप्त पाए जाते हैं वह उसके खिलाफ सीएम से कठोर कार्रवाई भी करवाएंगे। 

सांसद के सवाल-इनका क्या होगा?

 -एतिहासिक नुमाइश

 -मंगल बाजार 

 -राजनीतिक सभाएं 

 - प्रधानमंत्री से लेकर हर वीवीआइपी के हेलीकाप्टर  यहां उतरते हैं 

 -दीपावली में पटाखा बाजार लगाता है  

 दशहरा में रावण दहन 

 -मिनी नुमाइश

आखिर किसका है दवाब 

कांग्रेस के पूर्व सांसद चौ. बिजेंद्र ङ्क्षसह ने नुमाइश मैदान में पेट्रोल पंप खोले जाने की सूचना पर तल्ख टिप्पणी की है। उन्होंने प्रशासन से पूछा है कि किसके दवाब में यह निर्णय लिया जा रहा है। क्षेत्रीय सांसद सतीश गौतम व विधायक नुमाइश कमेटी को बताएं, कि राजेंद्र अखाड़ा पर किसान और उद्योग भवन के निर्माण होना चाहिए, ना कि पेट्रोल पंप का। इस स्थान को किसान व औद्योगिक भवन का प्रस्ताव विचाराधीन है। इसे कमेटी पास कर चुकी है। यह नुमाइश प्रस्ताव पारित किया था। पंप का लगाना विस्फोटक स्थिति को पैदा करना है। ङ्क्षसह ने पंप के निर्णय का विरोध किया है। डीएम पंप निर्माण को तत्काल रोक दें। 

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस