हाथरस, जागरण संवाददाता। मनरेगा मजदूरो के साथ कार्य स्थल पर पत्थर के बोर्ड लगाने जा रही मैक्स गाड़ी में नीचे लटक रहे हाईटेंशन लाइन के तार से छू जाने के कारण करंट आने से जहां आग लग गई। वही अचानक करंट लगने से अफरा तफरी में उतर रहे मजदूरों में से एक मजदूर को करंट लगने से उसकी मौके पर ही मौत हो गई।घटना से आक्रोशित ग्रामीण तथा मृतक युवक के परिजनों द्वारा मथुरा मार्ग पर जाम लगा दिया जाम की सूचना मिलने पर मौके पर पुलिस अधिकारी तथा एसडीएम पहुंच गए काफी समझा बुझाने के बाद उचित मुआवजे का आश्वासन देकर जाम खुलवाया। मृतक युवक के शव को पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।

मैक्‍स में मजदूरों के साथ जा रहा था

ग्राम पंचायत अरोठा के गांव टीकेत निवासी 22 वर्षीय संदीप कुमार उर्फ भोला पुत्र राजकुमार उर्फ राजू पंचायत में मनरेगा मजदूर के रूप में कार्य करता है। सोमवार की सुबह करीब 11 बजे वह अन्य मजदूरों के साथ मनरेगा की साइट पर कार्य स्थल को लेकर बोर्ड लगाने के लिए एक मैक्स में बैठकर जा रहे थे। गांव में ही एक रास्ते पर हाईटेंशन लाइन के तार नीचे झुके हुए थे, मैक्स के चालक ने तारों को बचाने की कोशिश की लेकिन विद्युत तार मैक्स से छू गई, जिससे मैक्स गाड़ी में करंट दौड़ गया। गाड़ी में अचानक आए करंट के कारण मजदूरों में अफरा-तफरी मच गई और वह गाड़ी से कूदकर भागने लगे। गाड़ी से कूदकर भागते समय संदीप कुमार का पैर गाड़ी की बॉडी से छू गया। जिसके कारण लगे करंट से उसकी मौके पर ही मौत हो गई। गांव के युवक तथा मनरेगा मजदूर की मौत की जानकारी स्वजन तथा ग्रामीणों को होने पर मौके पर काफी भीड़ एकत्रित हो गई और विद्युत विभाग के खिलाफ आक्रोशित होते हुए मथुरा मार्ग पर जाम लगा दिया।

राष्‍ट्रीय लोकदल के वरिष्‍ठ नेता भी मौके पर पहुंचे

जाम लगने की जानकारी होने पर बिसावर चौकी की पुलिस मौके पर पहुंच गई।लेकिन ग्रामीणों की मांग थी कि जिलाधिकारी जब तक नहीं आएंगे, जाम नहीं खोला जाएगा। चौकी इंचार्ज प्रदीप कुमार भदोरिया द्वारा अधिकारियों को अवगत कराया गया। जानकारी मिलने पर एसडीएम अंजली गंगवार, पुलिस उपाधीक्षक ब्रह्म सिंह, प्रभारी निरीक्षक डीके सिसोदिया पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। इधर घटना की जानकारी मिलने के बाद राष्ट्रीय लोक दल के वरिष्ठ नेता गिरेंद्र चौधरी एवं प्रदीप चौधरी उर्फ गुड्डू, ग्राम प्रधान प्रतिनिधि पवन चौधरी भी मौके पर आ गए। अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों से वार्ता की मजदूर की स्थिति काफी दयनीय बताते हुए उसे उचित मुआवजा देने की मांग की गई। मौके पर आई उपजिलाधिकारी अंजलि गंगवार ने ग्रामीणों तथा स्वजन को आश्वस्त करते हुए कहा कि मुआवजे के रूप में विद्युत विभाग से पांच लाख रुपये की आर्थिक मदद कराने के साथ ही मृतक की पत्नी को राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना के अलावा अन्य योजनाओं के माध्यम से आर्थिक मदद कराई जाएगी। उप जिलाधिकारी के आश्वासन के बाद ग्रामीणों द्वारा जाम खोला गया करीब एक घंटे तक लगे जाम में सैकड़ों की संख्या में वाहनों की लंबी लंबी कतार लग गई।

Edited By: Anil Kushwaha