अलीगढ़, जेएनएन। पूरी ''शक्ति'' के साथ ''मिशन'' चलाने की योजना शासनस्तर से तैयार की गई है। बालिकाओं को मजबूत बनाने व उनको उनके अधिकारों व कानून से अवगत कराने के लिए पूर्व में शासनस्तर से विभिन्न विभागों को मिशन शक्ति कार्यक्रम चलाने के निर्देश जारी किए गए थे। ये कार्यक्रम काफी हद तक सफल भी रहा था। इसलिए अब शिक्षा विभाग में इस कार्यक्रम को पूरे जोर-शोर के साथ करने के निर्देश जारी किए गए हैं। इसकी जिम्मेदारी पीटीआइ के कंधों पर ज्यादा रहेगी। अभी कोरोना काल में स्कूल बंद हैं लेकिन इसकी तैयारी अभी से करनी है।

बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में पढ़ने वाली छात्राओं और कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालयों में पढ़ने वाली छात्राओं को मिशन शक्ति के तहत आत्मरक्षा के गुर सिखाए जाएंगेे। साथ ही उनको मौलिक अधिकारों के बारे में जानकारी भी दी जाएगी। कोरोना संक्रमण काल के चलते अभी विद्यालय बंद चल रहे हैं। मगर जिला पीटीआइ को इस संबंध में ब्लाकवार योजना बनाने का काम अभी से शुरू करना होगा। जिला पीटीआइ सुशील कुमार शर्मा ने बताया कि ब्लाकों से छात्राओं की सूची तैयार कराने का काम किया जा रहा है। अगर विद्यालय नहीं खुलते हैं तो छात्राओं को पहले आनलाइन माध्यम से विभिन्न गतिविधियों से जोड़ा जाएगा। इसके बाद विद्यालय खुलने पर ब्लाकवार प्रशिक्षण कार्यक्रम भी चलाया जाएगा। छात्राओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाने की व्यवस्था भी की जाएगी। साथ ही स्कूलों में बेटियों के लिए जागरूकता कार्यक्रम भी किए जाएंगे। जिनमें उनको अधिकारियों व कानूनों के बारे में जानकारी दी जाएगी। अगर कोई समस्या सामने आए तो किन सरकारी नंबरों पर संपर्क करना है इसकी जानकारी पहले भी छात्राओं को दी गई है। एक बार फिर से कार्यक्रम शुरू होने पर छात्राओं को अपडेट किया जाएगा।