अलीगढ़, जागरण संवाददाता। लखनऊ एसटीएफ ने मंगलवार को क्वार्सी क्षेत्र के धौर्रा माफी इलाके में छापा मारा। यहां से PFI पीएफआइ (पापुलर फ्रंट आफ इंडिया) से जुड़े एक संदिग्ध व्यक्ति को हिरासत में लिया गया है। इसका नाम धौर्रा माफी निवासी निजामुद्दीन है। STF एसटीएफ की टीम क्वार्सी थाने में निजामुद्दीन से पूछताछ कर रही है।

यह भी पढ़े : अलीगढ़ में रोहिंग्‍या व PFI को लेकर सुरक्षा एजेंसियों की पहले से थी नजर, सिमी का रहा है गढ़

संदिग्‍ध दस्‍तावेज मिले

पापुलर फ्रंट आफ इंडिया (पीएफआइ ) के खिलाफ प्रदेश के कई हिस्सों में हुई छापेमारी के बीच लखनऊ एसटीएफ ने मंगलवार को क्वार्सी क्षेत्र के धौर्रा माफी इलाके से भी पीएफआइ की राजनीतिक विंग सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी आफ इंडिया (एसडीपीआइ) के प्रदेश अध्यक्ष को हिरासत में ले लिया। क्वार्सी थाने में एसटीएफ उससे देर रात तक पूछताछ करने में जुटी रही। उससे कुछ संदिग्ध दस्तावेज भी मिले हैं। जिनसे क्रोस चेक के लिए दूसरे शहरों में पकड़े आरोपितों से टीम ने बात भी की। निजामुद्दीन ने एएमयू से 11वीं की पढ़ाई की। इसके चलते सुरक्षा एजेंसी और उससे गहनता से पूछताछ कर रही हैं। उसके लोकल नेटवर्क को भी खंगाला जा रहा है। एसटीएफ ने अलीगढ़ समेत प्रदेश के 26 जिलों में कार्रवाई की है। इसमें 57 लोगों को हिरासत में लिया गया। इनपुट मिलने पर एसटीएफ ने क्वार्सी थाना इलाके के धौर्रा माफी निवासी डा. अफरोज के मकान में रह रहे 54 वर्षीय निजामुद्दीन खान को उठा लिया।

लोकल पुलिस को नहीं थी PFI की जानकारी

निजामुद्दीन मूलरूप से बलरामपुर के थाना पचमेड़वा, तहसील तुलसीपुर के 139, परसा बुजुवा का रहने वाला है और यहां ओवैसकरनी मस्जिद के पास धौर्रा माफी में किराए पर परिवार के साथ रहता है। एसटीएफ ने बड़े ही गुप्त तरीके से उससे दिन भर क्वार्सी थाने में पछूताछ की। स्थानीय पुलिस को भी इसमें शामिल नहीं किया गया। जिस समय निजामुद्दीन को पकड़ा था, तब इलाका पुलिस जरूर साथ दी। मंगलवार देर रात तक टीम उससे पूछताड में लगी हुई थी। एसपी सिटी कुलदीप सिंह गुनावत ने बताया कि एसटीएफ ने कार्रवाई की है। अभी लोकल पुलिस को युवक के बारे में कोई जानकारी नहीं है। न ही स्थानीय पुलिस की कोई मदद ली गई है।

पत्नी व बेटों को नहीं मिलने दिया

निजामुद्दीन को एसटीएफ क्वार्सी थाने ले आई थी। इसके बाद पत्नी व दो बेटे थाने पहुंचे और निजामुद्दीन से मिलने की गुहार लगाई। लेकिन, पुलिस ने उन्हें मिलने नहीं दिया। इसके लिए वे रात तक बैठे रहे थे। उधर, एसटीएफ ने अपनी कार्रवाई से स्थानीय पुलिस को अलग रखा। उन्हें भी किसी बात की जानकारी नहीं दी। क्रास पूछताछ की गई मंगलवार को पूरे प्रदेश में कई संदिग्ध पकड़े गए थे। ऐसे में पुलिस सभी जिलों के इनपुट को कनेक्ट करते हुए निजामुद्दीन से क्रास सवाल पूछ रही थी। इसीलिए देररात 12 बजे तक निजामुद्दीन से पूछताछ की जा रही थी।

एएमयू से भी की पढ़ाई

एएमयू से 11वीं की पढ़ाई, बसपा में भी रहा निजामुद्दीन ने 1982 में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से 11वीं की थी। 1988 में बहुजन समाज पार्टी और 1995 से 2007 तक नेशनल डेमोक्रेटिक पार्टी में रहा। इसके बाद 2013 से 2016 तक राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल में प्रदेश अध्यक्ष रहने के बाद वर्तमान में सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी आफ इंडिया का प्रदेश अध्यक्ष बताया जा रहा है। इस बीच 2016 में एसडीपीआइ से जुड़ गया। शुरुआत में नेशनल को-आर्डिनेटर बनाया गया। 2018 में एनडीसी का राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य व 2021 में प्रदेश अध्यक्ष रहा। इसकी तलाश में एसटीएफ दो दिन से शहर में डेरा डाले हुए थी। मंगलवार सुबह पुलिस ने निजामुद्दीन को उसके घर से पकड़ा गया।

यह है निजामुद्दीन का प्रोफाइल

1988 में बहुजन समाज पार्टी से जुड़ा। - 1995 से 2007 तक नेशनल डेमोक्रेटिक पार्टी में रहा। - 2013 से 2016 तक राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल में प्रदेश अध्यक्ष रहा। - अब सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी आफ इंडिया का प्रदेश अध्यक्ष बताया जा रहा है। - 2016 में एसडीपीआइ से जुड़ गया। नेशनल को-आर्डिनेटर बनाया गया। - 2018 में एनडीसी का राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य व 2021 में प्रदेश अध्यक्ष रहा। ये है निजामुद्दीन - मूलरूप से 139, परसा बुजुवा, थाना पचमेड़वा, तहसील तुलसीपुर (बलरामपुर) का रहने वाला है। - सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी आफ इंडिया का प्रदेश अध्यक्ष बताया जा रहा है। - निजामुद्दीन ने 1982 में एएमयू से 11वीं की थी। - 1988 में बहुजन समाज पार्टी से जुड़ा। - 1995 से 2007 तक नेशनल डेमोक्रेटिक पार्टी में रहा। - 2013 से 2016 तक राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल में प्रदेश अध्यक्ष रहा। - अब सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी आफ इंडिया का प्रदेश अध्यक्ष बताया जा रहा है। - 2016 में एसडीपीआइ से जुड़ गया। नेशनल को-आर्डिनेटर बनाया गया। - 2018 में एनडीसी का राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य व 2021 में प्रदेश अध्यक्ष रहा।

Edited By: Sandeep kumar Saxena

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट