जासं, अलीगढ़ : प्राचीन सिद्धपीठ खेरेश्वर महादेव मंदिर की समिति के दो वर्ष कार्यकाल पूर्ण होने पर भगवान शिव का भव्य रुद्राभिषेक किया गया।

मंदिर में भव्य फूल बंगला सजाया गया था। स्वामी पूर्णानंदपुरी महाराज के सानिध्य में भगवान शिव परिवार का विधि विधान से रुद्राभिषेक एवं पूजन किया गया। आचार्य गौरव शास्त्री, ऋषि शास्त्री, रवि शास्त्री, शिवम शास्त्री आदि आचार्यों ने पंचामृत से भगवान शिव का अभिषेक करवाया।

स्वामी पूर्णानंदपुरी महाराज ने बताया कि जीवन में मनोकामना की पूर्ति के लिए सच्चे मन से भगवान शिव की आराधना एवं रुद्राभिषेक किया जाए तो निश्चित रूप से अभीष्ट लाभ की प्राप्ति होगी। मंदिर समिति के अध्यक्ष ठाकुर सत्यपाल सिंह ने बताया कि भगवान शिव के आशीर्वाद से हमारी समिति की ओर से दूसरे वर्ष फूल बंगला लगाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। मुख्य यजमान धर्मेंद्र द्विवेदी, रामकुमार शर्मा, हितेंद्र बंटी उपाध्याय, मुकेश माहेश्वरी, विहारी लाल आदि ने पूजन किया।

सर्वार्थ सिद्धि व अमृत योग में मनाई जाएगी गुरु पूर्णिमा : आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को गुरु पूर्णिमा का उत्सव धार्मिक उल्लास के साथ मनाया जाता है। शिष्य अपने गुरुजनों का पूजन करते हैं। गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। पूर्णिमा तिथि शुक्रवार की सुबह 10:43 बजे से शुरू होकर शनिवार की सुबह 8:07 बजे तक रहेगी। उदया तिथि होने के कारण गुरु पूर्णिमा 24 जुलाई को मनाई जाएगी। इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत योग भी रहेगा। स्वामी पूर्णानंदपुरी महाराज के शिष्यों ने वैदिक ज्योतिष संस्थान पर शनिवार को उत्सव का आयोजन किया जाएगा है। वहीं, रावणटीला स्थित चेतन आश्रम पर भी गुरु पूजन होगा। आश्रम की संचालिका साध्वी पुनीता चेतन ने बताया कि शनिवार को सुबह ब्रह्मलीन गुरु चेतनानंद सरस्वती महाराज का पूजन होगा और आरती होगी। भजन-कीर्तन होगा।