हाथरस, जागरण संवाददाता। Hathras Crime : बसपा नेता और Advocate Rajpal Poonia द्वारा facebook id पर मां दुर्गा के लिए Unlimited comments लिखने पर बखेड़ा हो गया है। इस मामले में हाथरस जंक्शन निवासी अधिवक्ता मनोज कुमार शर्मा ने कोतवाली सदर में hurt religious sentiments करने का filed suit कराया है। राजपाल पूनिया की टिप्पणी को लेकर Hindutva organization से जुड़े लोग रोष व्यक्त कर रहे हैं।

तहसील में अधिवक्‍ता हैं राजपाल : राजपाल पूनिया निवास तमनागढ़ी, तहसील के अधिवक्ता हैं और बसपा से जुड़े हुए हैं। फिलहाल उन पर कोई पद बसपा में नहीं है। हाथरस जंक्शन निवासी मनोज कुमार शर्मा कचहरी में अधिवक्ता हैं। उन्होंने कोतवाली सदर में तहरीर दी है। इममें कहा है कि राजपाल पूनिया ने अपनी फेसबुक आइडी से मां दुर्गा के लिए अमर्यादित बातें लिखी हैं। इससे हिंदू धर्म के लाेगों की धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं।

SHO Hathras Sadar Lokesh Bhati का कहना है कि राजपाल पूनिया के खिलाफ धारा 153ए, 295-ए और 505-2 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। मामले की जांच कर आवश्यक कार्रवाई की जा रही है। उधर सवर्ण एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष पंकज धवरैया ने भी इस टिप्पणी को लेकर रोष जताया है और राजपाल की गिरफ्तारी नहीं करने पर आंदोलन की चेतावनी दी है। >

सासनी में भी दी गई तहरीर

सासनी। इंटरनेट मीडिया पर हिंदू देवी-देवताओं की आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर हिंदुत्ववादी संगठनों में रोष है। सासनी में भी इस संबंध में तहरीर दी गई है।

तहरीर में कहा है कि मूलरूप से गांव सुमिरतगढ़ी हाल निवासी तमनागढ़ी राजपाल पूनिया हिंदू देवी-देवताओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी इंटरनेट मीडिया पर की है। मां दुर्गा के विषय में अभद्र व अशोभनीय बातें लिखकर र्धामिक भावनाएं आहत की हैं। लोगों ने जब इसका विरोध किया तो राजपाल पूनिया ने फेसबुक आइडी से इस टिप्पणी को हटा लिया।

तहरीर में कहा गया है कि राजपाल पूनिया फेसबुक पर अक्सर विवादित कमेंट करते हैं। हिंदुत्ववादियों ने टिप्पणी के स्क्रीन शाट भी भी पुलिस को उपलब्ध कराए हैं। शिकायत दर्ज कराने वालों में भूपेंद्र शर्मा, आदेश पाठक, अविनाश तिवारी, विद्यानिवास, महेश शर्मा, गौरव पाठक आदि थे।

इनका कहना है

राजपाल पूनिया बसपा से जुड़े तो हैं, लेकिन उनका कोई पद नहीं है। यह उनकी व्यक्तिगत पोस्ट है, इससे बसपा का कोई लेना-देना नहीं है। उन्हें काेई ऐसी बात नहीं लिखनी चाहिए, जिससे दूसरों की धार्मिक भावनाएं आहत हों।

- केसी निराला, जिलाध्यक्ष बसपा।

Edited By: Anil Kushwaha