अलीगढ़ : आम तौर पर माना जाता है कि जब किसी व्यक्ति को यह जानकारी मिल जाए कि उसके यहां अधिकारी व गणमान्य व्यक्ति आने वाले हैं तो वह चौकन्ना हो जाता है। आदर सतकार के लिए दरवाजे पर खड़ा हो जाता है ताकि आना वाला अधिकारी खुश रहे। इसलिए अधिकारी के स्वागत के लिए तैयार हो जाता है, लेकिन हाथरस में ऐसा नहीं हुआ। हाथरस जिले की तहसील सादाबाद में एसडीएम जयप्रकाश टीम के साथ एक पेयजल का नमूना लेने के लिए प्लांट के गेट पर पहुंच गए। एसडीएम को देखते ही गेट बंद कर दिया गया।

गुरुवार को हाथरस जिले के सादाबाद में खाद्य विभाग की टीम के साथ चार पानी प्लांट पर छापेमारी की गई। इससे पानी कारोबारियों में खलबली मच गई। मुरसान रोड स्थित एक प्लांट पर टीम को देख संचालक ने गेट लगा लिया। इस टीम में एसडीएम भी मौजूद थे। प्लांट का दरवाजा नहीं खुला तो एसडीएम गेट पर ताला डालकर बैठ गए और जब तक गेट नहीं खुलेगा वह यहां से नहीं जाएंगे। एसडीएम करीब 45 मिनट प्लांट के बाहर कुर्सी डालकर बैठे रहे, लेकिन गेट नहीं खुला। फिर मौके पर पहुंचे एसएचओ केपी सिंह ने सख्ती से प्लांट का गेट खुलवाया। इसके बाद एसडीएम ने संचालक को कड़ी हिदायत दी और पानी का नमूना लिया। यहां बंद कमरे में रखे दूध और रबड़ी का भी नमूना भरा गया। इस कार्रवाई की जानकारी जब अन्य प्लांट वालों को मिली तो वे भी बंद करके चले गए। प्रकाश नगर और मुरली गार्डन के पीछे स्थित पेयजल प्लांट बंद मिले। एसडीएम ने कहा कि किसी भी तरह से लोगों के स्वास्थ्य और मानकों से खिलवाड़ नहीं होने दिया जाएगा। आगे भी छापेमारी जारी रहेगी। टीम में सुरेश कुमार, राकेश कुमार, मुनेंद्र ¨सह राना आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran