अलीगढ़ (जेएनएन)। युवक भी प्रेग्नेंट हो सकता है। इस बात पर सहज विश्वास नहीं होता, लेकिन एटा जिले की तहसील अलीगंज के रहने वाले एक युवक को मेडिकल रिपोर्ट ने प्रेग्नेंट बताया है। रिपोर्ट के बाद युवक के होश उड़ गए हैं। अलीगढ़ मंडल के जिला एटा की तहसील अलीगंज के रहने वाले 22 वर्षीय युवक के गुर्दे के आसपास दर्द हुआ था। हल्का-हल्का दर्द उसके पेट में भी हुआ। पेट दर्द की शिकायत पर वह शहर के रामघाट रोड पर क्वार्सी चौराहे के पास एक नर्सिग होम में चला गया।

इस नर्सिग होम में युवक का अल्ट्रासाउंड हुआ, लेकिन स्थिति साफ नहीं हुई। इसके बाद युवक का आईवीपी एक्सरे किया गया। इसकी रिपोर्ट हैरत में डालने वाली थी। रिपोर्ट में उल्लेख किया गया कि बच्चेदानी की नली (फिलोपियन ट्यूब) में गर्भ ठहरा है। साथ ही उसके गुर्दे की नली में सूजन है। युवक ने इस रिपोर्ट को अपने जानकारों को दिखाया तो पता लगा कि युवक तो प्रेग्नेंट है। तभी से युवक के होश फाख्ता हो गए हैं।

युवक ने दूसरे चिकित्सकों को रिपोर्ट दिखाई तो बताया गया कि महिलाओं के साथ इस तरह के मामलों में बच्चेदानी की नली की प्रेग्नेंसी सफल नहीं होती। अधिकतम दो से ढाई माह के अंदर ऐसे केस में अबॉर्शन कराना पड़ता है। वरना नाली फटने की आशका रहती है। रिपोर्ट में सिर्फ निष्कर्ष वाले कॉलम में प्रेग्नेंसी की पुष्टि की गई है। जबकि इससे पहले गुर्दे की नली में सूजन बताई गई है।

सम्भव है कि कम्प्यूटर पर रिपोर्ट प्रिंट से पूर्व किसी महिला की रिपोर्ट कॉपी पेस्ट हो गई हो। इस घोर लापरवाही से युवक परेशान हो गया है। इस संबंध में नर्सिग होम के संचालक ने बताया कि यह टाइपिंग गलती है। यह जानकारी युवक को पहले ही दे दी गई थी। कुछ राजनीतिज्ञ लोगों के इशारे पर युवक नर्सिग होम को बदनाम करने की कोशिश कर रहा है।