अलीगढ़, जेएनएन । इगलास तहसील मुख्यालय पर प्रदेश में शराब बंदी व नशामुक्ति के लिए चल रहा धरना चौथे दिन भी जारी रहा। गांव कजरौठ निवासी विश्वविजय सिंह भूख हड़ताल पर बैठे रहे। चार दिन बाद भी धरने कोई निष्कर्ष हीं निकला है। वहीं धरने को समाज सेवियों द्वारा समर्थन दिया जा रहा है।

प्रदेश में शराब बंदी की मांग जनहित 

शनिवार को परोपकार सामाजिक सेवा संस्था के अध्यक्ष जतन चौधरी ने धरना स्थल पर पहुंच कर धरने का समर्थन किया और प्रदेश में शराब बंदी की मांग को जनहित में स्वीकार किए जाने की बात कही। उन्होंने कहा कि नशे के कारण युवाओं का भविष्य अंधकार मय होता जा रहा है। प्रदेश में अपराधिक घटनाएं नशाखोरी के कारण होती है। उन्होंने कहा कि जल्द ही नितिन अग्रवाल आदि समाज सेवियों के साथ कस्बा में नशाखोरी के खिलाफ जनचेतना यात्रा निकाली जाएगी। चौ. साहब सिंह ने शराब बंदी आंदोलन को गांव-गांव पहुंचाने की अपील की। वहीं कोतवाल प्रदीप कुमार ने धरने पर पहुंच भूख हड़ताल के संबंध में जानकारी की। उन्होंने इस संबंध में भूख हड़ताल पर बैठे युवक से उच्चाधिकारियों से मिलकर अपनी मांग रखने की बात कही। वहीं कोतवाल ने कहा कि अवैध शराब की बिक्री करने वालों के खिलाफ पुलिस सख्त कार्रवाई कर रही है। यदि किसी गांव में अवैध शराब का कारोबार हो रहा है तो पुलिस को तत्काल सूचना दें। उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Anil Kushwaha