जासं, अलीगढ़ : रालोद के राष्ट्रीय महासचिव बाबा हरदेव सिंह ने गुरुवार को वरुणालय गेस्ट हाउस में संगठन की समीक्षा की। उन्होंने विभिन्न प्रकोष्ठों के अध्यक्षों द्वारा कार्यकारिणी विस्तार न किए जाने पर नारजगी व्यक्त की। नसीहत दी, अगर एक सप्ताह में गठन नहीं किया तो जिम्मेदारी के बारे में विचार किया जाएगा। उन्होंने बूथ स्तर पर संगठन की सक्रियता को भी परखा। पूर्व पीएम चौ. चरण सिंह की जयंती पर 23 दिसंबर को इगलास में रालोद-सपा की परिवर्तन संकल्प रैली से पहले उन्होंने तैयारी की नब्ज भी टटोली।

बाबा हरदेव सिंह ने जिलाध्यक्ष चौ. कालीचरन सिंह से संगठन की समीक्षा शुरूआत की। इसके बाद उन्होंने प्रकोष्ठों के जिलाध्यक्षों से सीधे संवाद किया। जिला संयोजक नीरज चौधरी से बूथ स्तर पर गठन की जानकारी ली। खैर, इगलास व बरौली विधानसभा क्षेत्रों पर जोर रहा। सिंह ने विकास खंड व न्याय पंचायत स्तर पर कमेटियों के गठन पर जोर दिया।

संगठन में महिलाओं की भागेदारी का निर्देश दिया। युवा जिलाध्यक्ष धीरज चौधरी ने अपनी कार्यकारिणी के बारे में विस्तार से जानकारी दी। महिला प्रकोष्ठ की जिलाध्यक्ष सुनीता चौधरी, विधि प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष फूल सिंह धनगर, चिकित्सा प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष डा. राजेश तोमर, किसान प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष रणधीर सिंह प्रधान व छात्र सभा के जिलाध्यक्ष देवेंद्र फौजदार जिला कार्यकारिणी का ब्यौरा नहीं दे सके। इन सभी को एक सप्ताह में कार्यकारिणी गठन कर केंद्रीय कार्यालय भेजने के निर्देश दिए हैं। नीरज शर्मा ने बताया है कि परिवर्तन संकल्प रैली को लेकर 11 दिसंबर को इगलास में बैठक होगी, जिसमें पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष चौ. जगपाल सिंह सहित ब्रज प्रांत के सभी जिलाध्यक्ष मौजूद रहेंगे। चौ. कालीचरन ने कहा कि किसी भी पदाधिकारी की ढिलाई बर्दाश्त नहीं होगी। बैठक में पूर्व विधायक भगवती प्रसाद सूर्यवंशी, नबाव सिंह छौंकर, विनोद करन, ओमपाल सूर्यवंशी, कुलदीप चौधरी, अशोक वाल्मीकि, ओमवीर सिंह दिवाकर आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran