अलीगढ़ (जेएनएन)। राजस्थान में पांच फीसद आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जरों के ङ्क्षहसक आंदोलन से आठ दिन से ट्रांसपोर्टर दहशत में हैं। भरतपुर व बालाजी व मध्यप्रदेश के धौलपुर हाइवे से गुजरने वाले ट्रकों का चक्का जाम है। एक हजार ट्रक फंसे हैं। न तो यहां से ट्रक जा रहे हैं, ना ही दक्षिण भारत व गुजरात से ट्रक आ रहे हैं। अलीगढ़ निर्मित ताला-हार्डवेयर, पीतल मूर्ति, बिजली फिटिंग उत्पादन, पावर प्रेस आदि आइटम दक्षिण भारत के महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक सहित अन्य प्रांतों में सप्लाई किया जाता है। यह सड़क मार्ग से मध्यप्रदेश के धौलपुर होते हुए राजस्थान राष्ट्रीय राजमार्ग से ट्रकों के जरिये जाता है। यही माल भरतपुर बालाजी के रास्ते राजस्थान जयपुर होते हुए गुजरात के जाम नगर, अहमदाबाद आदि शहरों के लिए जाता है।

80 ट्रक रोज जाते हैं

ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष ठा. अजयपाल सिंह ने बताया कि यहां से 70 से 80 ट्रक रोज रवाना होते हैं। गुजरात के सूरत से कपड़ा, जामनगर से ब्रास हार्डवेयर आदि उत्पादन आते हैं। साथ ही इन मार्गों से मौरंग भी आता है। पिछले पांच दिन से ट्रांसपोर्टर ने माल की बुकिंग बंद कर दी है। चालकों से ग्रामीण अंचल में सुरक्षित स्थान को तलाशने को कहा है। एक ट्रांसपोर्टर को 20 से 50 हजार रुपये रोज का नुकसान हो रहा है।

बंद की बुकिंग

ट्रांसपोर्टर हरीश चौधरी ने बताया कि राजस्थान व मध्यप्रदेश के रास्ते जाने वाले माल की बुकिंग बंद कर दी गई है। ङ्क्षहसक आंदोलन थमने का नाम नहीं ले रहा। चालकों के पास राशन व पैसा दोनों खत्म हो गए हैं।

स्टॉक खत्म

स्क्रेप कारोबारी कौशल गौड़ ने बताया कि पिछले पांच दिन से स्क्रेप के ट्रक नहीं आ पा रहे। यही हाल रहा तो माल शार्ट हो जाएगा। अब तो गोदाम में स्टोक भी खत्म होने की कगार पर है। व्यापारी संजय अग्रवाल ने बताया कि  सूरत से भेजे गए माल की लोकेशन भी नहीं मिल रही है। अभी माल स्टॉक में है। जल्द आवागमन शुरू नहीं हुआ तो परेशानी और भी बढ़ जाएगी। बनारसीदास जैन ने बताया कि पार्टियों के बार-बार फोन आ रहे हैं। किसी भी माल को पहुंचाने में एक सप्ताह का समय मिलता है। ट्रांसपोर्टर माल नहीं ले रहे हैं।

बसों में यात्रियों की संख्या घटी 

राजस्थान में चल रहे गुर्जर आंदोलन से अलीगढ़ से जाने वाली राजस्थान व यूपी रोडवेज की बसों में यात्रियों की संख्या लगातार घट रही है। आंदोलन के उग्र हो जाने से बसों का संचालन जयपुर, धौलपुर की बजाए केवल भरतपुर तक ही हो पा रहा है। गांधीपार्क रोडवेज बस स्टैंड के इंचार्ज मुनेशपाल सिंह के अनुसार अलीगढ़ से राजस्थान के विभिन्न रूटों पर चल रहीं राजस्थान व यूपी रोडवेज की करीब 24 बसें संचालित हो रही हैं, जिनमें पांच बसें सारसौल सेटेलाइट बस स्टैंड से चल रही हैं।

Posted By: Mukesh Chaturvedi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस