अलीगढ़, जेएनएन। रेलवे स्टेशन पर माता-पिता के साथ आने वाले व तीन साल में लापता हुए बच्चों को तलाशने के लिए जीआरपी ने सघन अभियान शुरू कर दिया है । अलीगढ़ में पिछले तीन दिन में ही सात बच्चों को खोजकर उनके मां-बाप से मिलाया गया है। पुलिस महानिदेशक रेलवे के निर्देश पर पिछले तीन साल से लापता हुए बच्चों की सकुशल बरामदगी के लिए 'आपरेशन मुस्कान' अभियान चलाया जा रहा है ।

गुम हुए बच्चों का डाटा संकलन तैयार

जीआरपी इंस्पेक्टर यशपाल सिंह ने बताया कि गुम हुए बच्चों का डाटा संकलन करने के साथ ही एक एल्बम तैयार की गई है । जिसमें 14 बच्चे गुमशुदा पाए गए हैं। बच्चों को तलाशने वाली टीम में समाजिक कार्यों में रुचि लेने वाले समर्पित पुलिस कर्मी शामिल किए गए हैं। जिन्हें बाल अधिकार संरक्षण कानून 2005, जुबेनाइल जस्टिस (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) कानून 2000, बाल मजदूरी ( निषेध एवं नियमन ) कानून 1986, पोक्सो एक्ट 2012 आदि की जानकारी देने के साथ ही उन्हें व्यावहारिक रूप से प्रशिक्षित भी किया गया है। अभियान के तहत रेलवे स्टेशन, आश्रय स्थलों पर गुमशुदा बच्चों की पहचान करने व बच्चों को खोजकर उनके घरों तक पहुंचाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पुलिस टीम ने पालना बालगृह, अलीगढ से पांच बच्चियों को उनके घर, नाम, पते व फोन नंबर के आधार पर उनके घर बदरपुर, दिल्ली में उनके माता-पिता को सौंपा गया है। इंस्पेक्टर जीआरपी ने बताया कि लापता चल रहे बच्चों की खोजबीन अभी जारी है, जल्द ही उन्हें भी खोजकर उनके स्वजन को सौंपा जाएगा ।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप