अलीगढ़, जेएनएन। यदि किसी करीबी, रिश्तेदार या परिचित के परिवार में हाल ही में कोई मृत्यु हुई है, तो उनके बैंक खाते का विवरण जरुर देखें। एक अप्रैल 2019 से 31 मार्च 2020 के बीच बैंक ने अगर 12 या 330 रुपया काटा है, तो इसे चिन्हित जरुर करें। इस पैसे के भुगतान से बैंक ने खाता धारक का बीमा किया है। यह दो लाख रुपये तक का होता है। बीमारी या कोरोना संक्रमण की मौत पर क्लेम करने के बाद 90 दिनों के अंतराल यह भुगतान होगा। अगर आपका बीमा बैंक ने नहीं किया है,तो आप जरुर करा लें। संकट की घड़ी में यह लाभ आपके प्रियजन ले सकते हैं। बैंक की करार वाली बीमा कंपनी दो लाख रुपया तक का रिस्क कवर करेंगी। अगर किसी खाता धारक की दुर्घटना, कोविड व अन्य बीमारी से मौत पर दावे के 90 दिन के अंतराल में ही भुगतान करेंगी।

बैंकों में पूछ रहे हैं हमारा बीमा है

इस माहमारी में हर कोई अपनी सेहत व अपने प्रियजन के भविष्य की चिंता में है। इन दिनों शाखाओं में खाता धारक शाखा प्रबंधकों से अपने बीमा की जानकारी जरुर ले रहे हैं। वे पता करते हैं कि उनका बैंक ने बीमा किया है, कि नहीं। हालांकि बैंकों की शाखाओं में इन दिनों नए खाता खोलने, पासबुक प्रिंट करने, नई चेक बुक का आवेदन, लोन संबंधी ग्राहकों को टाला जा रहा है। साथ ही शाखाओं के मुख्य गेट पर भी सख्ती है। पैसा जमा करने, नकदी निकालने, आरटीजीएस, डिमांड ड्रफ्ट, एनईएफटी जैसी सुविधा ही दी जा रही है। बैंकों में आधा स्टाफ रोस्टर के हिसाब से बुलाया जा रहा है।

इनका कहना है बैंक के खाता धरकों को अपना बीमा जरुर कराना चाहिए। लोग जागरुकता के अभाव में ऐसा नहीं करते हैं। जिन लोगों ने बीमा कराया है, हादसा होने या खाता धरकों की मौत पर दावा किए जा रहे है। पर इनकी संख्या कम है।

- अतुल सिंह, क्षेत्रीय सचिव, केनरा बैंक आफीसर एसोसिएशन, अलीगढ़

बैंक के खाता धरकों को यह बीमा जरुर कराना चाहिए। 330 व 30 रुपये के सालाना प्रीमियम में दो लाख रुपया तक का बैंक जोखिम ले रही है। इससे सस्ता बीमा हो ही नहीं सकता।

- मुकेश अग्रवाल, बीमा सलाहकार