अलीगढ़ जेएनएन: शासन ने पुलिस-प्रशासन को विदेशी जमातियों पर विशेष निगरानी रखने के निर्देश दिए हैं। इन्हें जिले से बाहर न जाने देने को भी कहा गया है। अलीगढ़ में पकड़े गए दोनों जमाती जेल में बंद हैं। विशेष सचिव रामनिवास शर्मा ने अलीगढ़ समेत  21 जिलों के डीएम व पुलिस अधीक्षकों को पत्र भेजकर विदेशी जमातियों पर विशेष निगरानी के निर्देश दिए गए हैं। जो जमाती जेल से बाहर आ गए हैं, उन्हें उनके जमानतदारों के घर ही ठहराने को कहा गया है।

ऊपरकोट में मिले थे दो जमाती

दिल्ली मरकज में कोरोना संक्रमित मिलने पर पूरे प्रदेश में जमातियों की जांच की गई थी। कई जिलों में विदेशी जमाती मिले थे। इनमें से कई वीजा नियमों का उल्लंघन करते मिले। पुलिस ने इनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की थी। अलीगढ़ में ऊपरकोट क्षेत्र से दो श्रीलंकाई जमाती पकड़े गए। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेज दिया।

विदेशी जमातियों पर विशेष निगरानी 

वीजा नियमों के उल्लंघन की रिपोर्ट शासन को भेजी गई। अब प्रदेश सरकार के विशेष सचिव रामनिवास शर्मा ने अलीगढ़ समेत  21 जिलों के डीएम व पुलिस अधीक्षकों को पत्र भेजकर विदेशी जमातियों पर विशेष निगरानी के निर्देश दिए गए हैं। जो जमाती जेल से बाहर आ गए हैं, उन्हें उनके जमानतदारों के घर ही ठहराने को कहा गया है। दूसरे जिलों में आवागमन पर रोक लगाई गई है।

 हर कर्मचारी व शिक्षक का काेरोना टेस्ट होगा

 अलीगढ़ : कोरोना काल में काम कर रहे माध्यमिक शिक्षा विभाग, सीबीएसई व आइसीएसई के शिक्षकों व कर्मचारियों समेत अधिकारियों को भी अपना कोविड-19 टेस्ट कराना होगा। इसके साथ सभी को आइवरमेक्टिन-12 एमजी दवा भी खानी है। डीआइओएस डाॅ. धर्मेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि जिलाधिकारी व स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी पत्र के अनुपालन में ये व्यवस्था की गई है। एडेड, राजकीय, वित्तविहीन, सीबीएसई व आइसीएसई सभी स्कूल-कॉलेजों के संचालकों को इस संबंध में पत्र जारी किया गया है। बताया कि, कोरोना काल में काम कर रहे शिक्षकों, कर्मचारियों को अपना कोविड-19 टेस्ट कराना है। आइवरमेक्टिन-12 एमजी दवा जिला औषधि निरीक्षक की ओर से हर संस्थान को क्रय कराई जाएगी। इसका सेवन भी करना है। तीन दिन तक इस दवा को खाना है। बताया कि, व्यस्क व्यक्ति को शाम काे खाना खाने के एक घंटे बाद एक गिलास पानी से दवा खानी है। 5-12 वर्ष उम्र के बच्चों को आइवरमेक्टिन-06 एमजी दी जाएगी। गर्भवती महिलाओं, धात्री व पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों को दवा नहीं दी जाएगी। एक हफ्ते बाद सभी संचालकों से इस संबंध में रिपोर्ट भी मांगी जाएगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस