अलीगढ़, जागरण संवाददाता। छर्रा कस्बा छर्रा स्थित गल्ला मंडी में धान बेचने आए दो किसानों के साथ आढत पर मारपीट कर दी। आरोप है कि आधी फसल की तुलाई के पश्चात आढती द्वारा तय कीमत से कम में खरीद करने को कहा गया। मामला बढने पर मौके पर किसानों की भीड एकत्रित हो गई। जिसके चलते वाद विवाद बढने पर बाद में दोनों पक्षों में जमकर मारपीट हुई। जानकारी पाकर भाकियू कार्यकर्तागण मौके पर पहुंच गए और किसान के साथ मारपीट के विरोध में मंडी परिसर में धरना पर बैठ गए। तथा आढतियों ने किसानों के अनाज की तौल बंद कर दी। मौके पर कोतवाली छर्रा, पाली मुकीमपुर व गंगीरी की पुलिस पहुंच गई।

यह है मामला

मामले के अनुसार क्षेत्र के ग्राम दादों निवासी बबलू व अपने तयेरे भाई निर्दोष कुमार मंगलवार की सुबह ट्रैक्टर ट्राली द्वारा अपने धान की फसल को छर्रा गल्ला मंडी में बेचने लाए थे। बताया गया है कि तौल की बारी आने पर आढती द्वारा बोली लगाकर उनके धान की कीमत 2451 रुपये तय हुई। बबलू का कहना है कि ट्राली में से करीब आधे धान की तौल हो गई तो व्यापारी ने कहा कि अब वह उस धान को 2411 रुपये प्रति कुंतल में खरीदेगा। तो बबलू ने इसका विरोध किया और तय कीमत पर ही धान को बेचने की बात कही। जिसको लेकर व्यापारी और किसान के बीच कहासुनी होने लगी। इतने में मौके पर मौजूद लोगों ने उसके व निर्दोष कुमार के साथ लात घूसों से जमकर मारपीट की और उसके कपडे भी फाड दिए। बबलू ने मामले की सूचना स्वजन को दी तो मौके पर काफी संख्या में लोग एकत्रित हो गए।

मंडी में भगदड़

सूचना पाकर मौके पर छर्रा पुलिस भी पहुंच गई। इसी दौरान हंगामा के बीच वार्ता चल रही थी। तभी किसी बात को लेकर किसानों व कुछ व्यापारी के बीच जमकर मारपीट होने लगी। मंडी में भगदड मच गई। मौके पर आसपास के कई थानों का पुलिस फोर्स पहुंच गया। बाद में भाकियू के नेता मौके पर पहुंच गए और आक्रोसित किसानों के साथ मंडी गेट पर धरना पर बैठ गए। उनकी मांग है कि मारपीट की संबंधित लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की जाए तथा उच्चाधिकारियों द्वारा आढती का लाइसेंस निरस्त कराया जाए। वहीं मंडी के सभी आढतियों ने किसानों के अनाज की तौल बंद कर दी। मामले को लेकर दोनों पक्षों में वार्ता चल रही है।