अलीगढ़ (जेएनएन)। विजयगढ़ थाना क्षेत्र के गांव नगला भोपाल गढ़ी में एक युवक का शव तीन दिन तक घर में रखा रहा। परिजनों ने मृतक की पत्नी की धमकी के चलते अंतिम संस्कार नहीं किया। जानकारी होने पर मृतक की पत्नी के गांव के प्रधान ने आकर मंगलवार को अंतिम संस्कार कराया। 

यह था मामला

भोपाल गढ़ी के सुभाष चंद्र (22) का विवाह एक वर्ष पहले जिला कन्नौज के गांव अलमापुर की आरती से हुआ था। शादी के दो माह बाद ही परिवार में अनबन हो गई। तभी से युवती मायके चली गई। वहीं, सुभाष चंद्र की तबीयत खराब रहने लगी। उसे क्षय रोग था। पिछले कुछ दिनों से फालिस हो गई थी।  रविवार को उसका निधन हो गया। परिजनों का आरोप है कि मौत की सूचना देने पर आरती भड़क गई और बोली कि उसके बिना यदि अंतिम संस्कार किया गया तो दहेज उत्पीडऩ का मामला दर्ज करा देगी। इसके बाद से ही उसका इंतजार किया जा रहा था।

पत्‍नी ने दी धमकी

दिन में कई बार सूचना दी जाती, जिसके जवाब में धमकी ही मिलती। इस पर आरती के गांव के प्रधान किताब सिंह से संपर्क किया गया। मंगलवार को किताब सिंह आए और अपनी मौजूदगी में अंतिम संस्कार कराया। इसको लेकर आसपास के इलाकों में चर्चा बनी रही। खास बात यह रही कि पत्‍नी पति के अंतिम संस्‍कार पर घर नहीं आई।

 

Posted By: Mukesh Chaturvedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप