अलीगढ़, जागरण संवाददाता। थाना देहलीगेट क्षेत्र के एडीए कालोनी में सोमवार देररात भाजपा नेत्री रूबी आसिफ खान व उनके शौहर पर फायरिंग करने के मामले में पुलिस ने एक आरोपित को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है। लेकिन, चार दिन बाद भी फरार चल रहे दो आरोपितों का कोई सुराग नहीं मिला है। पुलिस इसकी तलाश में लगी हुई है।

यह है मामला

एडीए कालोनी में भाजपा महावीरगंज मंडल की महिला मोर्चा की उपाध्यक्ष रूबी आसिफ खान रहती हैं। आसिफ खान ने 22 नवंबर की रात को तहरीर देकर कहा था कि रात करीब आठ बजे अपनी पत्नी रूबी के साथ बीमार मां को देखने एडीए कालोनी स्थित बिजलीघर के पास गए थे। तभी कुछ लोगों ने लोगों ने उन्हें घेर लिया और जान से मारने की नीयत से तमंचे से फायरिंग शुरू कर दी। किसी तरह रूबी आसिफ खान और उनके शौहर आसिफ खान ने अपना बचाव किया। गोली रूबी आसिफ खान की मां के घर की दीवार में जा लगी। शोर-शराबे पर स्थानीय लोग आ गए, जिन्हें देख हमलावर जान से मारने की धमकी देकर भाग गए। जानलेवा हमले को लेकर काफी देर तक हंगामा होता रहा। आसिफ का आरोप है कि कुछ लोग उनकी पत्नी की राजनीति में सक्रिय होने को लेकर रंजिश मानते हैं। कोई न कोई भी विवाद करते रहते हैं।

यह है आरोप

आसिफ का आरोप है कि उनके छोटे भाई काशिफ का रिश्ता जंगलगढ़ी की एक युवती से तय हो गया था। लेकिन, उनसे रंजिश मानने वाले कुछ लोगों के बहकावे में आकर युवती के पिता ने भाई कासिफ के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज करा दिया था। इसमें उसे जेल भी जाना पड़ा था। इसी रंजिश को लेकर सोमवार को उनके ऊपर जानलेवा हमला बोला गया है। पुलिस ने आरिफ को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है। इंस्पेक्टर प्रमेंद्र कुमार ने बताया कि कासिम व कासिफ की तलाश की जा रही है।