अलीगढ़ [जेएनएन]। स्मार्ट सिटी को प्रदूषण मुक्त और सुगम यातायात के लिए इलेक्ट्रिक बसें संचालित करने की योजना पर केबिनेट की मुहर लग गई है। अलीगढ़ को 25 इलेक्ट्रिक बसें मिली हैं। हालांकि, इसको लेकर अफसरों ने पहले ही तैयारी शुरू कर ली थी। बरौला जाफराबाद में डिपो का निर्माण शुरू हो गया है। नगर निगम की सीमा में बसें संचालित करने के लिए 11 रूट निर्धारित किए जा चुके हैं। बसों के संचालन के बाद अवैध रूप से दौड़ रहे ई-रिक्शा प्रतिबंधित कर दिए जाएंगे।

शहर में बनेंगे तीन चार्जिंग स्टेशन

शहरों को प्रदूषण मुक्त करने के लिए प्रदेश सरकार ने पेट्रोल, डीजल व सीएनजी से चलने वाली महानगर बसों की जगह इलेक्ट्रिक बस सेवा शुरू करने का निर्णय लिया था। पहले चरण में अलीगढ़, बरेली, मुरादाबाद, इटावा आदि शहरों को रखा गया है। डीएम चंद्रभूषण सिंह ने अलीगढ़ में इलेक्ट्रिक बसें संचालित करने का प्रस्ताव भेजा था, जिस पर अब केबिनेट की मुहर लग चुकी है। शहर में तीनों प्राइवेट बस अड्डों पर चार्जिंग स्टेशन बनाने की तैयारी है। बसों के शुरू होते ही प्रमुख मार्गों पर ई-रिक्शा पर रोक लग जाएगी।

जाम से मिलेगी मुक्ति

शहर में बेलगाम हुए ई-रिक्शा जाम का सबसे बड़ा कारण हैं। नगर निगम में 1100 ई-रिक्शा पंजीकृत हैं, लेकिन सड़कों पर चार से ज्यादा ई-रिक्शा हैं। इलेक्ट्रिक बसों की शुरुआत होते ही इन पर रोक लग जाएगी।

पीपीपी मॉडल के तहत होगा संचालन

सहायक नगर आयुक्त राजबहादुर सिंह ने बताया कि इलेक्ट्रिक बसों के लिए रूट निर्धारण कर दिया गया है। बरौला जाफराबाद में डिपो भी बनवा रहे हैं। पीपीपी मॉडल पर इनका संचालन कराया जाएगा।

Posted By: Sandeep Saxena

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस