अलीगढ़ : मौसम विभाग की चेतावनी का असर मंगलवार की रात महसूस हुआ। दिन भले ही सही गुजर गया, लेकिन देर रात आंधी ने लोगों की चिंता बढ़ा दी। करीब 11 बजे अचानक आई आंधी जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। इस दौरान कई स्थानों पर तार व पोल टूटने से बिजली गुल हो गई। पेड़ की शाखाएं टूटने से कई स्थानों पर रास्ता अवरुद्ध हुआ। आंधी का असर ग्रामीण क्षेत्र में अधिक दिखाई दिया। बागों में आम की फसल को नुकसान हुआ।

जानकारों के अनुसार जिस बिगड़ते मौसम की भविष्यवाणी से लोग सहमे हुए हैं, वह बंगाल की खाड़ी व भूमध्य सागर से उठी हवाओं के टकराव की वजह से है। इससे पश्चिमी विक्षोभ पैदा हुआ है। राजस्थान से लगे पाकिस्तान के बॉर्डर से प्रवेश करने वाली ये तेज हवाएं यहां तक असर दिखा रही हैं। इसका असर बुधवार तक रहने की आशंका है। तेज हवा के कारण तापमान में तार डिग्री गिरावट भी आई है।

मौसम को लेकर सोमवार को अलर्ट जारी किया गया। इसे लेकर कक्षा एक से आठ तक के स्कूलों में छुंट्टी की गई है। रात को आंधी आने के बाद आज पूरे दिन मौसम को लेकर लोग सहमे रहे। टीवी और अन्य माध्यमों से मौसम के बारे में जानकारी करते रहे। सोमवार को अधिकतम तापमान 41.2 डिग्री की तुलना में मंगलवार को 37.2 रह गया। आज भी रहेगा असर

भूगर्भ विज्ञानी प्रो. लियाकत अली राव ने बताया कि नासा ने सेटेलाइट के माध्यम से यह भविष्यवाणी की थी। बंगाल की खाड़ी व भूमध्य सागर से तेज हवाएं उठने के बाद आपस में टकराई हैं। इससे पश्चिमी विक्षोभ पैदा हुआ है। इसका असर बुधवार तक रहेगा। इसमें आंधी, बारिश और ओले पड़ने की संभावना है। इस तरह लुढ़का पारा

तिथि, अधिकतम तापमान

आठ मई, 37.2

सात मई, 41.2

छह मई, 38.4

पांच मई, 38.8

चार मई, 36.4

विद्युत विभाग ने शटडाउन कराया, कर्मियों को किया सतर्क

आंधी के चलते विद्युत विभाग ने एहतियातन शट डायन करा दिया। हालांकि, रात 11.30 बजे हल्की हवा होने पर शहर में आपूर्ति सामान्य कर दी गई थी। मगर, देहात क्षेत्र में देररात तक बिजली गुल रही।

मौसम विभाग की संभावना के चलते विद्युत विभाग को सतर्क रहने के निर्देश जिला प्रशासन द्वारा दिए गए हैं। बैठक कर अधीक्षण अभियंता ग्रामीण धर्मेद्र सारस्वत ने अधिशासी अभियंता से सतर्कता बरते जाने के निर्देश दिए थे। शाम पांच बजे तक आंधी का असर नहीं था। रात में आठ बजे के बाद हवा की गति तेज हुई। 10 बजे तेज हवा शुरू हुई और 11 बजे आंधी शुरू हो गई। इससे पहले ही विद्युत विभाग का एलर्ट जारी हो गया। सारसौल, बीनूपुर व बौनेर आदि बिजली घरों को शट डाउन के निर्देश दे दिए गए। गभाना, अतरौली, इगलास व खैर तहसील क्षेत्रों में आंधी का अधिक असर था। अधिशासी अभियंता ने सभी जेई और लाइनमैन को देररात तक जगे रहने के निर्देश दिए ताकि कहीं भी गड़बड़ी हो तो मौके पर टीम जा सके। हालांकि, 11.30 बजे हवा की गति धीमे होने के बाद विद्युत विभाग के अधिकारियों ने राहत की सांस ली। अधिशासी अभियंता जेपी वर्मा ने बताया कि शहर में एहतियातन शट डाउन कराया गया था। कहीं से कोई गड़बड़ी नहीं मिली थी। रात में ही विद्युत आपूर्ति चालू कर दी गई थी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप