हाथरस, जेएनएन। लगातार हो रही बरसात के कारण अब लोगों की मुसीबतें बढ़ती जा रही है। मकान और दीवारों के गिरने का सिलसिला लगातार जारी है। बारिश के कारण विद्युत सप्लाई व्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हो गई है। शहर व देहात में बिजली सप्‍लाई प्रभावित चल रही है।

पांच लोग हुए घायल

शुक्रवार की सुबह जहां शहर में दो मकान बारिश के कारण गिर गए थे। जिससे हलवाई खाना जैन गली निवासी चार लोग घायल हो गए। तो वहीं शनिवार की तड़के कोतवाली हाथरस गेट क्षेत्र के गांव सोखना में दीवार गिर जाने से दंपती मलबे में दबकर घायल हो गए। जबकि हाथरस जंक्शन के गांव नगला खरग में मकान गिरने से तीन लोग मलबे में दबकर घायल हो गए। जिनका उपचार जिला अस्पताल में कराया गया। सादाबाद के गांव बीजलपुर में बारिश के कारण दीवार गिरने से सात भेंड व एक मेमना की मौत हो गई।

शहर से लेकर देहात तक बिजली गुल

बारिश के कारण विद्युत सप्लाई व्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हो गई है। शुक्रवार रात को बारिश होने के कारण शहर में वाटर वाक्र्स, गिजरौली, नवीपुर क्षेत्र की लाइनों में खराबी आ जाने के कारण करीब सात घंटे तक बिजली संकट रहा। इसके साथ ही शहर के नगला अलगर्जी में सौ केवी के ट्रांसफार्मर के खराब हो जाने के कारण रात से लोग बिना बिजली सप्लाई के परेशान हैं।

पोखर का पानी घरों में पहुंचा

क्षेत्र में चार दिनों से हुई लगातार बारिश से कई गांवों मध्य बनी पोखर अब उफान पर हैं उनका पानी पास के घरों में घुस रहा है। गांवों में पोखर के आसपास निवास करने वाले बने मकानों में दरार पड़ गयी हैं। ग्रामीणों में मकान गिरने एवं बीमारी फैलने का भय सताने लगा है। सहपऊ के गांव में नगला सेवा, पीहुरा, कोंकना कला, नगला कली एवं मढाका आदि गांवों के मध्य में बनी पोखर बरसात के कारण अब गांवों में पानी ओवर फ्लो हो गया है और घरों में घुस रहा है। उपरोक्त ग्रामीणों का कहना है कि उन्होंने इन पोखर के पानी की निकासी के लिए उच्चाधिकारियों से कई बार शिकायत कर चुके हैं। लेकिन इस समस्या का समाधान अभी तक नही हुआ है। नवनिर्वाचित प्रधान भी इस ओर कोई ध्यान नही दे रहे हैं।