अलीगढ़, जेएनएन। रामघाट रोड अब रामघाट-कल्याण मार्ग के नाम से जाना जाएगा। पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के निधन के बाद से उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने अलीगढ़ में एक मार्ग का नाम कल्याण सिंह के नाम से रखने की घोषणा की थी। लोक निर्माण विभाग ने रामघाट रोड का प्रस्ताव बनाकर भेजा था। यह मार्ग क्वार्सी होते हुए पूर्व मुख्यमंत्री के पैतृक गांव मढ़ौली से होकर रामघाट जाता है। इसलिए इस मार्ग को प्रमुखता से प्रस्ताव बनाकर भेजा गया था। शासन ने इसपर अनुमति भी दे दी थी। इससे रामघाट रोड का नाम कल्याण मार्ग कर दिया गया था, मगर इस पर कुछ लोगाें ने नाराजगी जताई थी। उनका कहना था कि रामघाट रोड मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम के नाम से जुड़ा है। इसलिए इस मार्ग का नाम प्रभु राम से ही जुड़ा होना चाहिए। इसे संशोधित किया जाए।

ऐसे हुई घोषणा

मंगलवार को एटा आए उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने रामघाट रोड का नाम रामघाट-कल्याण मार्ग कर दिया। माना जा रहा है कि उप मुख्यमंत्री ने लोगों की भावना को ध्यान में रखते हुए मार्ग का नाम रामघाट-कल्याण मार्ग रखा है। उप मुख्यमंत्री ने इसे फोरलेन करने की घोषणा की है। इससे क्वार्सी से लेकर रामघाट रोड तक यह मार्ग फोरलेन होगा। करीब 47 किमी लंबा मार्ग फोरलेन किया जाएगा। इसमें क्वार्सी से लेकर हरदुआगंज तक यह मार्ग फोरलेन है। इसपर बहुत थोड़ा काम है। डिवाइडर और फुटपाथ का काम किया जाना है। हरदुआगंज से लेकर रामघाट तक करीब 38 किमी मार्ग को फोरलेन किया रहेगा। जिले में शहर के बाहरी क्षेत्र को जोड़ने वाले करीब-करीब सभी मार्ग फोरलेन हो गए हैं। रामघाट रोड और मथुरा रोड ही दो लेन रह गए थे। इसमें रामघाट-कल्याण मार्ग के फोरलेन की घोषणा हो गई है। इस मार्ग के फोरलेन होने से मुरादाबाद, बरेली, बदायूं आदि जिलों के लिए यात्रा सुमग हो जाएगी। वहीं, प्रत्येक वर्ष महाशिवरात्रि पर्व पर कांवड़ियों का सैलाब उमड़ता है, इससे कांवड़ियों को काफी सुविधा होगी। इससे पहले उन्हें हरदुआगंज से लेकर रामघाट तक काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता था।