जागरण संवाददाता, अलीगढ़ : देहलीगेट इलाके के खैर रोड, इंद्रानगर में माता-पिता के साथ रिश्तेदारी में घूमने आया बालक अचानक गायब हो गया था। उसका शव तीन दिन बाद गुरुवार को नाले में सफाई के दौरान पड़ा मिला।

सिविल लाइन के जमालपुर स्थित फिरदौस नगर के इकरार रिक्शा चलाते हैं। वह सोमवार को पत्‍‌नी शहाना व चारों बच्चे इसरार, मरियम, नाजिमी व रिहान के साथ देहलीगेट इलाके में खैर रोड इंद्रानगर में रहने वाली अपनी साली शमां बेगम के यहां गए थे। यहां से वह शाम सात बजे वापिस चले तो रास्ते में साढू गुलजार की दुकान पर पहुंच गए। इकरार का बड़ा बेटा इसरार (07) चाय का कुल्हड फेंकने दुकान के सामने नाले के पास गया लेकिन लौटा नहीं। परिजन परेशान होकर उसे ढ़ूंढ़ने लगे। रात तक जब पता न चला तो वे जलालपुर पुलिस चौकी पहुंचे और गुमशुदगी दर्ज कराई।

गुरुवार की सुबह खैर रोड के इंद्रानगर नाले की जेसीबी मशीन से सफाई चल रही थी। इसी दौरान बालक का शव गुलजार की दुकान के आगे मिल गया। जिसके बाद कोहराम मच गया।

सूचना पर बालक के माता-पिता व अन्य रिश्तेदार भी आ गए। पुलिस ने बालक के शव का पोस्टमार्टम कराया फिर उसे परिजनों के हवाले कर दिया। एसओ देहलीगेट अनुज कुमार ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में नाले के पानी में डूबकर बालक की मौत हुई है। परिजनों ने किसी प्रकार की कार्रवाई करने से इंकार किया है। आशंका है कि कुल्हड़ फेंकने के दौरान उसका पैर फिसला हो और वह नाले में गिर गया हो।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप