अलीगढ़, जागरण संवाददाता।  कोरोना संक्रमण बुजुर्ग व बीमार रोगियों के जानलेवा साबित हो सकता है। रविवार को मेडिकल कालेज में भर्ती कोरोना संक्रमित गर्भवती महिला की मृत्यु हो गई। वहीं, 212 नए रोगी निकले। विभाग का कहना है कि मृतका पहले से ही डेंगू, एनीमिया व अन्य बीमारियों से ग्रस्त थी। इससे पहले तीन अन्य रोगियों की मृत्यु हो चुकी है। सभी दूसरी गंभीर बीमारियों से ग्रस्त थे। सीएमओ ने डेथ आडिट करने के निर्देश जारी किए हैं।

12 जनवरी को जेएन मेडिकल कालेज में किया गया था भर्ती

सिविल लाइन निवासी 27 वर्षीय महिला को 12 जनवरी को जेएन मेडिकल कालेज में भर्ती किया गया। जांच में उसकी प्लेटलेट्स काफी कम थी। हीमोग्लोबिन भी सामान्य से नीचे पहुंच गया। खून की कमी (एनीमिया) से भी ग्रस्त थी। चिकित्सकों ने उसकी कोविड-19 जांच कराई, जिसकी रिपोर्ट पाजिटिव आई थी। रविवार को तड़के तीन बजे महिला की मृत्यु हो गई। कोविड प्रोटोकाल के तहत ही उसका शव दीनदयाल अस्पताल से भेजी गई एंबुलेंस से स्वजन के सपुर्द किया गया। इससे पूर्व 14 जनवरी को बरौलिया टोला निवासी 50 वर्षीय व्यक्ति की मेडिकल कालेज व नगला मानसिंह के 62 वर्षीय बुजुर्ग की 15 जनवरी को दीनदयाल अस्पताल में मृत्यु हो गई। मृत्य का कारण चिकित्सकों कार्डिएक अरेस्ट व टीबी दर्शाया है। टीबी से मृत दर्शाए गए व्यक्ति की आरटीपीसीआर जांच नहीं हुई थी, इसलिए उसका डेथ आडिट भी नहीं होगा। बाकी, दोनों मामलों में डेथ आडिट के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी।

158 रोगी डिस्चार्ज

जिले में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है,लेकिन रिकवरी रेट भी अच्छा है। रविवार को 158 रोगियों को स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज किया गया। इनमें 10 रोगी दीनदयाल अस्पताल में भर्ती थे। अब दीनदयाल अस्पताल में 15 व मेडिकल कालेज में छह संक्रमित रोगी ही भर्ती हैं। सक्रिय रोगियों की संख्या 1490 पहुंच गई है। नई लहर में किसी रोगी के मरने की पुष्टि स्वास्थ्य विभाग ने नहीं की है।

Edited By: Anil Kushwaha