अलीगढ़, जेएनएन ।  कोरोना काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया का मंत्र ज्यादातर लोग जप रहे हैं। संक्रमण से बचने के लिए लोगों ने सरकारी महकमों में कैश काउंटरों से दूरी बढ़ा ली है। गृहकर हो या बिजली का बिल, या फिर अन्य कोई पेमेंट, कैशलेस ही किया जा रहा है। विभागीय अधिकारी भी उपभोक्ताओं को इसके लिए प्रेरित कर रहे हैं। उपभोक्ताओं को बेवसाइट और लिंक भी शेयर किए जा रहे हैं, जिसके जरिए वह पेंमेंट कर सकते हैं। 

पिछले साल शुरू हुई थी कैशलेस पेमेंट की व्‍यवस्‍था

नगर निगम ने पिछले साल कोरोना संकट के बीच कैशलेस पेमेंट की शुरुआत की थी। जगह-जगह शिविर लगाकर इसके लिए लाेगों को प्रेरित किया गया। बकाया राशि के भुगतान में छूट भी दी गई। नगर निगम को इसका लाभ भी हुआ। काेराेना संक्रमण के चलते उपभोक्ताओं ने कैश काउंटर की अपेक्षा गृहकर का अानलाइन भुगतान किया। अप्रैल में 10 लाख रुपये के अधिक का गृहकर जमा हुआ था। जल मूल्य भी आनलाइन जमा कराया गया। अब कोरोना की दूसरी लहर में भी उपभोक्ता कैश काउंटरों पर न जाकर आनलाइन भुगतान कर रहे हैं। नगर निगम के वाट्सएप ग्रुप के जरिए इसका प्रचार-प्रसार भी कराया जा रहा है, जिससे ज्यादा से ज्यादा उपभोक्ता कैशलेस पेमेंट के लिए जागरुक हों।

कैशलेस पेेमेंट से उपभोक्‍ताओं को ही लाभ

अपर नगर आयुक्त अरुण कुमार गुप्त बताते हैं कि कैशलेस पेमेंट से उपभोक्ताओं का ही लाभ है। घर बैठे से ही वह गृहकर, जल मूल्य, यूजर चार्ज आदि टैक्स जमा कर सकते हैं। संक्रमण का खतरा नहीं रहता और समय भी बचता है। निगम की बेवसाइट पर सारी जानकारियां उपलब्ध हैं। बकाया राशि, भुगतान की अंतिम तिथि, पेनल्टी, छूट आदि सभी जानकारी उपभोक्ता बेवसाइट से ले सकते हैं। सेवाभवन में आने की आवश्यकता नहीं है। सुझाव व शिकायतों के लिए निगम के हेल्पलाइन नंबरों पर संपर्क किया जा सकता है। ज्यादातर उपभोक्ता इस सुविधा का लाभ भी उठा रहे हैं।