अलीगढ़, जेएनएन : पंचायत चुनाव प्रक्रिया शुरू होते ही प्रशासन ने आदर्श आचार संहिता लागू कर दी है। इस दौरान बिना अनुमति के कोई भी प्रत्याशी अपने वाहन पर बड़ा हार्न व साउंड का इस्तेमाल नहीं कर सकते है। बावजूद इसके सत्ता व दबंगई के बूते अधिकांश प्रत्याशी आचार संहिता की धज्जियां धड़ल्ले से उड़ा रहे हैं। रोक लगाने वाले जिम्मेदार आंख मूंदकर संरक्षण भी दे रहे हैं। गाडिय़ों के काफिले के साथ अलीगढ़ पलवल मार्ग पर हूटर बजाते हुए इंटरनेट मीडिया पर वीडियो का वायरल होना शासन के नियमों की धज्जियां उड़ाना है।

प्रशासन की नाकामी पड़ेगी भारी

विकास खंड खैर क्षेत्र के जिला पंचायत एवं ग्राम पंचायत में राज्य चुनाव आयोग के सख्ती का असर स्थानीय प्रशासन की नाकामी के चलते भारी पड़ रहा है। फेसबुक पर वायरल वीडियो में हूटर बजाते हुए गाडिय़ों के काफिले कस्बा की सड़कों, गांवों में धूल उड़ा रहे हैं। कानून को ठेंगा दिखाकर पंचायत चुनाव लडऩे वाले प्रत्याशी उसका माखौल उड़ाने से भी बाज नहीं आ रहे हैं। कोविड 19 को देखते हुए शासन के स्पष्ट आदेश हैं, भीड़ भाड़ व जुलूस को ले जाना सख्त मना है।